You are here: India / world States and Uts

Andhra Pradesh

Andhra Pradesh

Capital City; Amaravathi,Hyderabad Area:1,60,205 Sq. Kms. Districts:13 Population: 4,93,86,799 Crores Andhra Pradesh is one of the 29 states of India, situated on the southeastern coast of the country. The state is theeighth largest state in India covering an area of 160,205 km2 (61,855 sq mi).As per 2011 census of India, the state is tenth largest by population with 49,386,799 inhabitants. On 2 June 2014, the north-western portion of the state was bifurcated to form a new state of Telangana. In accordance with the Andhra Pradesh Reorganisation Act, 2014, Hyderabad will remain the de jure capital of both Andhra Pradesh and Telangana states for a period of time not exceeding 10 years. The new river-front proposed capital in Guntur district is Amaravati, which is under the jurisdiction of APCRDA.[5] The Gross State Domestic Product (GSDP) of the state in the 2014–15 financial year at current prices stood at ₹5,200.3 billion (US$77 billion) and ₹4,641.84 billion (US$69 billion) in the 2013–14 financial year. The state has a coastline of 974 km (605 mi), the second longest among all the states of India after Gujarat.[3][7] It is bordered by Telangana in the north-west,Chhattisgarh in the north, Odisha in the north-east, Karnataka in the west, Tamil Nadu in the south and the water body of Bay of Bengal in the east. A small enclave of 30 km2 (12 sq mi) of Yanam, a district of Puducherry, lies south of Kakinada in the Godavari delta to the east of the state. There are two regions in the state namely Coastal Andhra and Rayalaseema. These two regions comprise 13 districts, with 9 in Coastal Andhra and 4 in Rayalaseema. Visakhapatnam is the largest city and a commercial hub of the state with a GDP of $48 billion followed by Vijayawada with a GDP of $3 billion as of 2010. The study of history reveals that major portion of the southern India (Dakshina Padham) was extended by Andhra region. Several dynasties ruled over this part of the country. Historically the earliest mention of the Andhras appeared in the Aitareya Brahmana (B.C.800).It was called Dakshina Padh during those days. Historians felt that Andhras, Pulindas, Sabaras, and many other sects lived in Dakshina Padh. But it is only in the Mauryan age that one gets historical evidence of the Andhras as a political power in the southeastern Deccan. Megasthenese,who visited the Court of Chandragupta Maurya (B.C.322–297), mentioned that Andhra country had 30 fortified towns and an army of 1,00,000 infantry, 2,000 cavalry and 1,000 elephants. Buddhist books reveal that Andhras established their kingdoms on the Godavari belt at that time. Asoka referred in his 13th rock edict that Andhras were his subordinates. Geography Andhra Pradesh lies between 12°41' and 19.07°N latitude and 77° and 84°40'E longitude, and is bordered by Telangana, Chhattisgarh, and Orissa in the north, the Bay of Bengal in the East, Tamil Nadu to the south and Karnataka to the west. Among the other states, which are situated on the country's coastal area, Andhra Pradesh has got a coastline of around 972 km, which gives it the 2nd longest coastline in the nation.[1] Two major rivers, the Godavari and the Krishna run across the state. A small enclave 12 sq mi (30 km²), the Yanam district of Puducherry, lies in the Godavari Delta in the north east of the state. The state includes the eastern part of Deccan plateau as well as a considerable part of the Eastern Ghats. CULTURE As the rest of the constituents of the Indian Union, Andhra Pradesh too, in its own inimitable way, contributed its own part to the common cultural heritage of India, maintaining at the same time its own individuality. Though, throughout the ages, owing to many historical reasons, many races, peoples and religious groups contributed in their own way to the cultural development of Andhras, the keynote of that growth has always been a synthesis on the basis of eternal values. The Andhra cultural wealth developed in such a way is reflected to-day in feasts and festivals; literature, music, dance, drama, arts and crafts, attitude and actions, educational pattern and mode of life of the Andhras. Here only a thumbnail sketch of those various facets of Andhra Culture is attempted to be given under appropriate heads. Religion, Feasts and Festival The Dwaita, the Visishtadwaita, the Advaita, and Saivite faiths coexist in Andhra Pradesh among Hindus, while Muslims and Christians also live side by side with tolerance. The Sakti, in her finer and cruder manifestations is also worshipped. In the better and richer type of villages, the temples of Vishnu, Siva and Sakti prevail. Vighneswara, Srirama and Hanuman are also provided in these shrines. Religious or sectarian fanaticism in general does not exist in the State of Andhra Pradesh. Some of the famous temples in Andhra Pradesh are at Simahachalam, Sun temple in Arasavalli in Srikakulam District), Draksharama, Bhadrachalam in Khammam District, Annavaram and Antarvedi in the East Godavari District, Mangalagiri in Guntur District, Achanta, Palakol, Dwaraka Tirumala in West Godavari, Tirupati and Kalahasti in Chittoor, Kanaka Durga at Vijayawada in Krishna and Ahobilam in Kurnool District. The other famous temples are in Srikakulam, Mukhalingam. Kotappakonda, Srisailam and Mahanandi. All of them are structures of great antiquity and possess rare architectural values. Christian churches in places like Medak and mosques in Hyderabad are noteworthy. In addition to these, local deities called Gramadevatas are held in reverence. Jataras are celebrated. They do not belong to any particular denomination. The Hindu priest would officiate at their ceremonies; nevertheless the villager regards them with awe and never fails to do obeisance before them. These are located generally on the village outskirts, the idol consisting of a stone smeared liberally with oil, saffron, kumkum and turmeric. The Gramadevatas, one comes across in rural Andhra are innumerable and are given local names such as Gangamma, Gogulamma, Nukalamma, Vellamma, Chinnamma, Muthyalammma, Bangaramma, Ankalamma, Pyditalli, Perantalamma and Poturaju. If disregarded for too long, people believe they cause diseases and disasters in the village. Animal or fowl sacrifice is practiced to appease them. The religion of the hill tribes is based largely on superstition and animism. Witchcraft and animal sacrifice are also widely believed, though they are becoming things of the past by the spread of modern education. The most terrible visitation in the eyes of the Koya tribe in Godavari Valley are eclipses of the sun and the moon for they believe that the devil in the shape of a serpent or a tiger is thereby trying to swallow the earth. They ward it off by beating drums all the time the eclipse lasts. Feasts and Festivals Andhras observe many feasts and festivals. Most of them have some religious significance; but they are notable mainly for the occasion for gaiety and merry making they provide. On such days every household is decorated with floral and green leaf torana hung across the windows and doors. The courtyard is decorated tastefully with designs of muggu powder (rangoli) and the doorsteps are painted with daubs of turmeric and kumkum pastes. Dhoop sticks and dhup, sambrani are burnt in all the homes and the air is filled with aromatic smell. People wear new clothes; the lady of the house cooks special dishes and generally some community function is held near the village temple or at a common place. There are nine major festivals observed by Andhras; seven of them religious and two agricultural.   Ugadi: Ugadi is Telugu New Year Festival usually comes in March/April. This is regarded auspicious for the peace, prosperity and happiness of the family in the ensuing year. The family members wear new clothes on this occasion and the entire day is spent in feasting out the forecast for the following year from Hindu almanac at a ceremony called ‘Panchanga Shravanam’.   Srirama Navami: It is the celebration of the birth of Sri Rama usually celebrated in April. It is observed with devotion and prayers. The Ramayana is read out before huge gatherings and at the end of which panakam, a drink made out of jaggery and vadapappu a preparation with green gram dhal are distributed. Vinayaka Chaturthi: Vinayaka is god of success. This festival too is observed in August/September with great devotion to ensure success for all the family’s undertakings in the ensuing year. Dasara: This festival falls about September/October and is celebrated for ten days as ‘Dasara Navaratri’. On the ninth day craftsmen and artisans worship their tools as ‘Ayudhapooja’. The tenth day Vijayadashami is celebrated with gaiety. Deepavali: The Festival of lights which falls weeks after Dasara is celebrated as victory of good over evil for the slaying of the mythological tyrant Narakasura by Lord Krishna and his consort Satyabhama. End of Narakasura resulted in freedom to 16,000 maidens whom the tyrant had kept in captivity. Wearing new clothes, Children celebrate the festivals by lighting fire works. Sankaranti: The festival falls on 13/14th of January every year, when the farmer expresses his gratitude to nature after a good harvest. It is an important festival for Andhras. Mahasivarathi: The festival February/March, is celebrated in honour of Lord Siva who constitutes the trinity of Brahma, Vishnu and Siva. Panduga, Eruvaaka are celebrated by Andhra farmers. The housewives celebrate vratams and nomus. Shravana mangala varamu, Kartika somavaramu are typical examples. The hill tribes celebrate the Chaitra festival when the harvest is gathered and there is a whole month before them to dance and make merry. Tourism Andhra Pradesh is a state in India.[1] Andhra Pradesh Tourism Development Corporation (APTDC) is a state government agency which promotes tourism in Andhra Pradesh, describing the state as the Koh-i-Noor of India. Andhra Pradesh has a variety of tourist attractions including beaches, hills, caves, wildlife, forests and temples Visakhapatnam city has many tourist attractions such as Kailashagiri park near the sea, Visakha Museum, Indira Gandhi Zoological Park, the INS Kursura (S20) Submarine museum, the Dolphins Nose, and the Lighthouse. Religious and pilgrimage sites[ The state's many temples and shrines, mosques, and churches attract many pilgrims. Most of the temples were built during the reign of Vijayanagar empire. A number of festivals are organized with thousands of tourists visiting them. Some famous temples are: Tirumala Venkateswara Temple in the town of Tirumala in Tirupati in Chittoor district is an important pilgrimage site for Hindus throughout India. It is one of the richest pilgrimage temple of any religious faith in the world.[3] It is the abode of Lord Venkateswara. Ranganayakula swami Temple in Nellore it is only Temple in world.. Penchalakona Lakshmi narasimha swami Temple in Nellore district.. Mallikarjuna Swamy temple situated at Srisailam in the Nallamala Hills of Kurnool district,[4] is the abode of lord Mallikarjuna Shiva and is one of the twelve Jyotirlinga shrines in India. Lord Rama himself installed the Sahasralinga, while the Pandavas lodged the Panchapandava lingas in the temple courtyard. The Vijayanagara Empire built a number of monuments, including the Srisailam and Lepakshi temples. Kanaka Durga Temple of the goddess Durga is situated on the Indrakeeladri Hill in the city of Vijayawada on the banks of Krishna River. A large number of pilgrims attend the colourful celebrations of Tepotsavam and for a holy dip in the Krishna river during the festival of Dusshera.[5] Simhachalam, located on a hill 20 kilometres (12 mi) north of the Visakhapatnam city centre, is another popular pilgrimage site of national importance. Simhachalam is said to be the abode of the savior-god Narasimha. The five ancient Hindu temples of Lord Shiva, known as Pancharama Kshetras, are located at Amararama, Draksharama, Somarama, Ksheerarama and Kumararama. Other religious places include Srikalahasti temple in Srikalahasti in the Chittoor district, Raghavendra Swami Mutt in Mantralayam of Kurnool district, Lord Venkateswara temple inDwaraka Tirumala of West Godavari District, Annavaram temple in East Godavari and Arasavalli Surya temple in Srikakulam District are also located in the state. Religious sites in Anantapur District include Prashanthi Nilayam in Puttaparthi, the home of Sathya Sai Baba, as well as Lepakshi, home of a famous temple and statue of theNandi bull. Islam is also popular religion, with a number of mosques built during the reigns of Muslim rulers. One of the famous is Shahi jamia masjid in Adoni of Kurnool district. There are many famous churches constructed centuries ago with historical significance. One of them is the Gunadala Church at Vijayawada. The state has numerous Buddhist centres at Amaravati, Nagarjuna Konda, Bhattiprolu, Ghantasala, Nelakondapalli, Dhulikatta, Bavikonda, Thotlakonda, Shalihundam, Pavuralakonda, Bojjannakonda (Sankaram), Phanigiri and Kolanpaka आंध्र प्रदेश  भारत के दक्षिण-पूर्वी तट पर स्थित राज्य है। क्षेत्र के अनुसार यह भारत का चौथा सबसे बड़ा और जनसंख्या की दृष्टि से आठवां सबसे बड़ा राज्य है। इसकी राजधानी और सबसे बड़ा शहर हैदराबाद है। भारत के सभी राज्यों में सबसे लंबा समुद्र तट गुजरात में (1600 कि॰मी॰) होते हुए, दूसरे स्थान पर इस राज्य का समुद्र तट (972 कि॰मी॰) है। हैदराबाद केवल दस साल के लिये राजधानी रहेगी, तब तक अमरावती शहर को राजधानी का रूप दे दिया जायेगा। आंध्र प्रदेश 12°41' तथा 22°उ॰ अक्षांश और 77° तथा 84°40'पू॰ देशांतर रेखांश के बीच है और उत्तर में महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और उड़ीसा, पूर्व में बंगाल की खाड़ी, दक्षिण में तमिल नाडु और पश्चिम में कर्नाटक से घिरा हुआ है। ऐतिहासिक रूप से आंध्र प्रदेश को "भारत का धान का कटोरा" कहा जाता है। यहाँ की फसल का 77% से ज़्यादा हिस्सा चावल है।इस राज्य में दो प्रमुख नदियाँ, गोदावरी और कृष्णा बहती हैं।पुदु्चेरी (पांडीचेरी) राज्य के यानम जिले का छोटा अंतःक्षेत्र (12 वर्ग मील (30 वर्ग कि॰मी॰)) इस राज्य के उत्तरी-पूर्व में स्थित गोदावरी डेल्टा में है। ऐतिहासिक दृष्टि से राज्य में शामिल क्षेत्र आंध्रपथ, आंध्रदेस, आंध्रवाणी और आंध्र विषय के रूप में जाना जाता था।आंध्र राज्य से आंध्र प्रदेश का गठन 1 नवम्बर 1956 को किया गया। फरवरी 2014 को भारतीय संसद ने अलग तेलंगाना राज्य को मंजूरी दे दी। तेलंगाना राज्य में दस जिले तथा शेष आन्ध्र प्रदेश (सीमांन्ध्र) में 13 जिले होंगे। दस साल तक हैदराबाद दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी होगी। नया राज्य सीमांन्ध्र दो-तीन महीने में अस्तित्व में आजाएगा अब लोकसभा/राज्यसभा का 25/12सिट आंध्र में और लोकसभा/राज्यसभा17/8 सिट तेलंगाना मे होगा।इसी माह आन्ध्र प्रदेश में राष्ट्रपति शासन भी लागू हो गया जो कि राज्य के बटवारे तक लागू रहेगा। इतिहास ऐतरेय ब्राह्मण (ई.पू.800) और महाभारत जैसे संस्कृत महाकाव्यों में आंध्र शासन का उल्लेख किया गया था।भरत के नाट्यशास्त्र (ई.पू. पहली सदी) में भी "आंध्र" जाति का उल्लेख किया गया है।भट्टीप्रोलु में पाए गए शिलालेखों में तेलुगू भाषा की जड़ें खोजी गई हैं। चंद्रगुप्त मौर्य (ई.पू. 322-297) के न्यायालय का दौरा करने वाले मेगस्थनीस ने उल्लेख किया है कि आंध्र देश में 3 गढ़ वाले नगर और 100,000 पैदल सेना, 200 घुड़सवार फ़ौज और 1000 हाथियों की सेना थी। बौद्ध पुस्तकों से प्रकट होता है कि उस समय आंध्रवासियों ने गोदावरी क्षेत्र में अपने राज्यों की स्थापना की थी। अपने 13वें शिलालेख में अशोक ने हवाला दिया है कि आंध्रवासी उसके अधीनस्थ थे। शिलालेखीय प्रमाण दर्शाते हैं कि तटवर्ती आंध्र में कुबेरका द्वारा शासित एक प्रारंभिक राज्य था,जिसकी राजधानी प्रतिपालपुरा (भट्टीप्रोलु) थी। यह शायद भारत का सबसे पुराना राज्य है।लगता है इसी समय धान्यकटकम/धरणीकोटा (वर्तमान अमरावती) महत्वपूर्ण स्थान रहे हैं, जिसका गौतम बुद्ध ने भी दौरा किया था। प्राचीन तिब्बती विद्वान तारानाथ के अनुसार: "अपने ज्ञानोदय के अगले वर्ष चैत्र मास की पूर्णिमा को बुद्ध ने धान्यकटक के महान स्तूप के पास 'महान नक्षत्र' (कालचक्र) मंडलों का सूत्रपात किया। मौर्योंने ई.पू. चौथी शताब्दी में अपने शासन को आंध्र तक फैलाया। मौर्य वंश के पतन के बाद ई.पू. तीसरी शताब्दी में आंध्र शातवाहन स्वतंत्र हुए. 220 ई.सदी में शातवाहन के ह्रास के बाद, ईक्ष्वाकु राजवंश,पल्लव, आनंद गोत्रिका, विष्णुकुंडीना, पूर्वी चालुक्य और चोला ने तेलुगू भूमि पर शासन किया। तेलुगू भाषा का शिलालेख प्रमाण, 5वीं ईस्वी सदी में रेनाटी चोला (कडपा क्षेत्र) के शासन काल के दौरान मिला. इस अवधि में तेलुगू, प्राकृत और संस्कृत के आधिपत्य को कम करते हुए एक लोकप्रिय माध्यम के रूप में उभरी. अपनी राजधानी विनुकोंडा से शासन करने वाले विष्णुकुंडीन राजाओं ने तेलुगू को राजभाषा बनाया.विष्णुकुंडीनों के पतन के बाद पूर्वी चालुक्यों ने अपनी राजधानी वेंगी से लंबे समय तक शासन किया। पहली ईस्वी सदी में ही चालुक्यों के बारे में उल्लेख किया गया कि वेशातवाहन और बाद में ईक्ष्वाकुओं के अधीन जागीरदार और मुखिया के रूप में काम करते थे। 1022 ई. के आस-पास चालुक्य शासक राजराज नरेंद्र ने राजमंड्री पर शासन किया। पल्नाडु की लड़ाई के परिणामस्वरूप पूर्वी चालुक्यों की शक्ति क्षीण हो गई और 12वीं और 13वीं सदी में काकतीय राजवंश का उदय हुआ। काकतीय, वारंगल के छोटे प्रदेश पर शासन करने वाले राष्ट्रकूटों के प्रथम सामंत थे। सभी तेलुगू भूमि को काकतीयों ने एकजुट किया। 1323 ई. में दिल्ली के सुल्तान ग़ियास-उद-दिन तुग़लक़ ने उलघ ख़ान के तहत तेलुगू देश को जीतने और वारंगल को क़ब्जे में करने के लिए बड़ी सेना भेजी. राजा प्रतापरुद्र बंदी बनाए गए। 1326 ई. में मुसुनूरी नायकों ने दिल्ली सल्तनत से वारंगल को छुड़ा कर उस पर पुनः क़ब्जा किया और पचास वर्षों तक शासन किया। उनकी सफलता से प्रेरित होकर, वारंगल के काकतीयों के पास राजकोष अधिकारियों के तौर पर काम करने वाले हरिहर और बुक्का ने विजयनगर साम्राज्य की स्थापना की, जो कि आंध्र प्रदेश और भारत के इतिहास में सबसे बड़ा साम्राज्य है।[17]1347 ई. में दिल्ली सल्तनत के ख़िलाफ़ विद्रोह करते हुए अला-उद-दीन हसन गंगू द्वारा दक्षिण भारत में एक स्वतंत्र मुस्लिम राष्ट्र, बहमनी राज्य की स्थापना की गई। 16वीं सदी के प्रारंभ से 17वीं सदी के अंत तक लगभग दो सौ वर्षों के लिए कुतुबशाही राजवंश ने आंध्र देश पर आधिपत्य जमाया. भूगोल और जलवायु आम तौर पर आंध्र प्रदेश की जलवायु गर्म और नम है। राज्य की जलवायु का निर्धारण करने में दक्षिण पश्चिम मानसून की प्रमुख भूमिका है। लेकिन आंध्र प्रदेश में सर्दियां सुखद होती हैं। यह वह समय है जब राज्य कई पर्यटकों को आकर्षित करता है। आंध्र प्रदेश में ग्रीष्मकाल मार्च से जून तक चलता है। इन महीनों में तापमान काफ़ी ऊंचा रहता है। तटीय मैदानों में गर्मियों का तापमान आम तौर पर राज्य के बाकी जगहों की तुलना में अधिक होता है। गर्मियों में, आम तौर पर तापमान 20 डिग्री सेल्सियस और 40 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। गर्मी के दिनों में कुछ स्थानों पर तापमान उच्चतम 45 डिग्री तक भी पहुंचता है। आंध्र प्रदेश में जुलाई से सितंबर उष्णकटिबंधीय बारिश का मौसम होता है। इन महीनों के दौरान राज्य में भारी वर्षा होती है। आंध्र प्रदेश में कुल वर्षा का लगभग एक तिहाई अंश पूर्वोत्तर मानसून की वजह से होता है। अक्टूबर महीने के आस-पास राज्य में सर्दी का मौसम आता है। आंध्र प्रदेश में अक्टूबर, नवंबर, दिसंबर, जनवरी और फरवरी सर्दी के महीने हैं। राज्य का तटीय इलाका काफी लंबा होने की वजह से सर्दियों में मौसम बहुत ठंडा नहीं होता है। सर्दियों में तापमान का विस्तार आम तौर पर 13 डिग्री सेल्सियस से 30 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। गर्मी के महीनों के दौरान राज्य का दौरा करने के लिए आपको गर्मी के कपड़ों की अच्छी तैयारी करने की ज़रूरत पड़ेगी. मौसम का अच्छी तरह सामना करने के लिए सूती कपड़े उपयुक्त हैं। चूंकि वर्ष के अधिकांश भाग के दौरान आंध्रप्रदेश की जलवायु अनुकूल नहीं है, राज्य का दौरा करने के लिए अक्टूबर से फ़रवरी के बीच का समय अच्छा है। कृषि खाद्यान्न उत्पादन में संलग्न आंध्र प्रदेश की अर्थव्यवस्था का प्राथमिक क्षेत्र कृषि है। आंध्र प्रदेश देश के प्रमुख धान उत्पादन राज्यों में से एक है और भारत में वर्जीनिया तंबाकू का लगभग 4/5 भाग का उत्पादन भी यहीं होता है। राज्य की नदियाँ, विशेषकर गोदावरी और कृष्णा कृषि के लिए महत्त्वपूर्ण हैं। लंबे समय तक इनके लाभ आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्रों तक सीमित थे, जिन्हें सर्वोत्तम सिंचाई सुविधाएं उपलब्ध थीं। स्वतंत्रता के बाद शुष्क आंतरिक क्षेत्रों के लिए इन दो नदियों के अलावा अन्य दो नदियों के पानी को एकत्र करने के प्रयास किए गए हैं। नहरों द्वारा सिंचाई करने से तेलंगाना और रायलसीमा क्षेत्रों में तटीय आंध्र प्रदेश की कृषि-औद्योगिक इकाइयों से होड़ लेती इकाइयों की संख्या बढ़ गई है। आंध्र प्रदेश में नागरिकों का मुख्य व्यवसाय खेती है, इसके लगभग 62 प्रतिशत हिस्से में खेती होती है। आंध्र प्रदेश की मुख्य फ़सल चावल है और यहाँ के लोगों का मुख्य आहार भी चावल ही है। राज्य के कुल अनाज के उत्पादन का 77 प्रतिशत भाग चावल ही है। यहाँ की अन्य प्रमुख फ़सलें - ज्वार, तंबाकू, कपास और गन्ना हैं। आंध्र प्रदेश भारत का सबसे अधिक मूँगफली पैदा करने वाला राज्य है। राज्य के क्षेत्रफल के 23 प्रतिशत हिस्से में सघन घने वन हैं। वन उत्पादों में सागवान, यूकेलिप्टस, काजू, कैस्यूरीना और इमारती लकड़ी मुख्य रूप से हैं। संस्कृति   आंध्र प्रदेश में कई संग्रहालय हैं, जिनमें शामिल है- गुंटूर शहर के पास अमरावती में स्थित पुरातत्व संग्रहालय, जिसमें आस-पास के प्राचीन स्थलों के अवशेष सुरक्षित हैं, हैदराबाद का सालारजंग संग्रहालय, जिसमें स्थापत्य, चित्रकला और धार्मिक वस्तुओं का विविध संग्रह है, विशाखापट्नम में स्थित विशाखा संग्रहालय है, जहां डच पुनर्वास बंगले में स्वतंत्रता पूर्व मद्रास प्रेसिडेंसी का इतिहास प्रदर्शित है।[31]विजयवाडा में स्थित विक्टोरिया जुबिली संग्रहालय में प्राचीन मूर्तियां, चित्र, देवमूर्तियां, हथियार, चाकू-छुरियां, चम्मच आदि और शिलालेखों का अच्छा संग्रह है   पर्यटन पर्यटन विभाग द्वारा आंध्र प्रदेश का प्रचार "भारत का कोहिनूर " के रूप में किया जा रहा है। आंध्र प्रदेश कई धार्मिक तीर्थ केंद्रों का घर है। तिरुपति, भगवान वेंकटेश्वर का निवास, दुनिया में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला (किसी भी धर्म का) धार्मिक केंद्र है। नल्लमला पहाड़ियों में बसा श्रीशैलम, श्री मल्लिकार्जुन का निवास है और भारत के बारह ज्योतिर्लिंगों में एक है। अमरावती का शिव मंदिर पंचाराममों में एक है, वैसे ही यादगिरीगुट्टा में विष्णु के अवतार श्री लक्ष्मी नरसिंह का वास है। मंदिर की नक्काशियों के लिए वरंगल में स्थित रामप्पा मंदिर और हज़ार स्तंभों का मंदिर प्रसिद्ध है। राज्य में अमरावती, नागार्जुन कोंडा, भट्टीप्रोलु, घंटशाला, नेलकोंडपल्ली, धूलिकट्टा, बाविकोंडा, तोट्लकोंडा, शालिगुंडेम, पावुरालकोंडा, शंकरम, फणिगिरि और कोलनपाका में कई बौद्ध केंद्र हैं। 6वीं शताब्दी में बादामी चालुक्यों ने (बादामी कर्नाटक में है) आलमपुर के ब्रह्मा मंदिर का निर्माण किया,[37] जो चालुक्य कला और शिल्प-कला काएक उत्कृष्ट उदाहरण है। विजयनगर साम्राज्य ने असंख्य स्मारक, श्रीशैलम मंदिर और लेपाक्षी मंदिरों का निर्माण किया। विशाखापट्नम में गोल्डन बीच, बोर्रा में एक लाख वर्ष पुराने चूना-पत्थर की गुफाएं, सुरम्य अरकु घाटी, हार्सली पहाड़ियों के हिल-रिसॉर्ट, पापी कोंडलुके संकरे रास्ते से गोदावरी नदी में नौका-दौड़, इट्टिपोतला, कुंतला के झरने और तालकोना में समृद्ध जैव-विविधता, इस राज्य के कुछ प्राकृतिक आकर्षणों में शामिल हैं। कैलाशगिरि विशाखापट्नम में समुद्र के पास है। कैलाशगिरि पहाड़ी की चोटी पर एक बग़ीचा है। विशाखापत्तनम, INS करासुरा पनडुब्बी संग्रहालय (भारत में अपनी तरह का अकेला), भारत का सबसे लंबा समुद्र-तटीय सड़क, यारडा समुद्र-तट, अरकु घाटी, VUDA पार्क और इंदिरा गांधी चिड़ियाघर जैसे कई पर्यटक आकर्षणों का घर है। बोर्रा गुफाएं बोर्रा गुफाएं भारत के आंध्र प्रदेश राज्य में विशाखापट्नम के समीप पूर्वी घाट के अनंतगिरि पहाड़ियों में स्थित है। ये मध्यम समुद्री तल से लगभग 800 से 1300 मीटर की ऊंचाई पर हैं और लाखों बरस पहले के आरोही और अवरोही निक्षेप के लिए प्रसिद्ध हैं। वर्ष 1807 में ब्रिटिश भूविज्ञानी विलियम किंग जॉर्ज द्वारा इनकी खोज की गई। गुफा का नाम गुफा के अंदर के एक गठन से पड़ा है, जो देखने में मानव मस्तिष्क जैसा लगता है, जिसे स्थानीय भाषा तेलुगू में बुर्राकहा जाता है। इसी तरह, बेलम गुफाओं का गठन करोड़ों साल पहले चित्रावती नदी द्वारा चूना-पत्थर संग्रहों के कटाव द्वारा हुआ। इन चूना-पत्थर की गुफाओं का गठन कार्बानिक एसिड - या चूना-पत्थर और पानी के बीच प्रतिक्रिया की वजह से हल्के अम्लीय भूमिगत जल की क्रिया के फलस्वरूप हुआ है। बेलम गुफाएं भारतीय उप महाद्वीप में दूसरी सबसे बड़ी गुफा-प्रणाली है। बेलम गुफाओं का नाम, गुफा के लिए संस्कृत में प्रयुक्त शब्द बैलम से व्युत्पन्न है। तेलुगू में ये गुफाएं बेलम गुहलु नाम से जानी जाती हैं। बेलम गुफाओं की लंबाई 3229 मीटर होते हुए, उसे भारतीय उपमहाद्वीप की दूसरी सबसे बड़ी प्राकृतिक गुफा बनाती है। बेलम गुफाओं में लंबे गलियारे, विशाल कोठरियां, मीठे पानी के सुरंग और नालियां हैं। गुफा का गहरा बिंदु120 फ़ुट (37 मी) प्रवेश द्वार से है और यह पातालगंगा के रूप में जाना जाता है। हार्सली पहा़ड़ी की ऊंचाई 1265 मीटर है और यह आंध्र प्रदेश का प्रसिद्ध गर्मियों का पहाड़ी सैरगाह है, जो बेंगलूर से लगभग 160 कि॰मी॰ दूर और तिरुपति से 144 कि॰मी॰ की दूरी पर है। इसके पास मदनपल्ली शहर बसा है। प्रमुख पर्यटकों के लिए आकर्षणों में मल्लम्मा मंदिर और ऋषि वैली स्कूल शामिल हैं। 87 कि॰मी॰ की दूरी पर हार्सली पहाड़ी कौंडिन्या वन्यजीव अभयारण्य के लिए प्रस्थान बिंदु है। चारमीनार, गोलकोंडा किला, चंद्रगिरि किला, चौमुहल्ला पैलेस और फलकनुमा पैलेस राज्य के कुछ स्मारक हैं। कृष्णा जिला के विजयवाडा में कनकदुर्गा मंदिर, द्वारकातिरुमला में वेंकटेश्वर मंदिर, पश्चिम गोदावरी जिला (इसे चिन्न तिरुपति भी कहा जाता है), श्रीकाकुलम जिले के अरसवेल्ली में सूर्य मंदिर भी आंध्र प्रदेश में देखने लायक स्थान हैं। अन्नवरम सत्यनारायण स्वामी का मंदिर पूर्वी गोदावरी जिले में है            

Advertisements


Poll

स्कूली बच्चों को कोरोना महामारी में कैसे पढ़ाना चाहिए?

  • ऑनलाइन
  • ऑफलाइन
  • कह नहीं सकते