You are here: India / world States and Uts

Kerala

Kerala

Area ;38,863 sq. km Population; 3,33,87,677 * Capital; Thiruvananthapuram Principal Languages ;Malayalam Kerala: At a Glance Hedged in between the Western Ghats with its highest peaks of Anamudi and Agasthyarkoodam on the east and the Arabian Sea on the west and blessed by North-East (October - November) and South-West (June - August) monsoon seasons this evergreen land of Kerala on the South-Western part of the Indian peninsula, with mountains, hills valleys and lakes, deserves to be praised with the epithet 'God's own Country' which the famous English Poet Dylan Thomas used to eulogise the Wales Countryside. The geographical data of Kerala is North Latitude between 8018' and 12048' East longitude between 74052' and 77022'. A Living Heritage The long interconnected lakes having rich wealth of estuarine fishes, mussels and clams and with coconut groves and occasional paddy fields on either side constitute National Water way III of India stretching from Thiruvananthapuram in the south to the northern most districts. This ancient conduit to take merchandise by heavy boats to the ports of Muziris (Present Kodungalloor) Aleppo (Present Alappuzha) Ayi (Present Vizhinjam) Kollam and Beypore thronged first by Romans and afterwards by Chinese, Syrians, Arabs and in recent centuries by Europeans for trade is now the golden Pathway of tourists and luxury boats. A few of the interconnected lagoons witness some of the most spirited boat races in the world such as the Nehru Trophy, Uthruttathi and Aranmula boat races. The total length of the waterways is 1687 Kms. The famous beaches of Kovalam Varkala, Cherayi, Muzhuppilangadu and Bekal brace up nearer the National Waterway III though, otherwise well-connected with the international airports of Thiruvananthapuram, Kochi and Kozhikode and also the newly coming up Kannur airport. N.H.47 traverses the state from the south end to Palakkad for Bangalore and N.H.17 from Kochi to Mangalore for Mumbai. Besides them there are state highways such as the M.C. Road, Kochi-Madurai, Thiruvananthapuram - Thenkasi, Kozhikode-Mysore, Vadakara - Virajpettah - Bangalore roads. With 1, 54, 679 Kms road length Kerala occupies top-notch position in road connectivity. Agriculture & Irrigation The State has witnessed a remarkable transformation in the agricultural sector since its formation. The implementation of Land Reforms Act in 1963 became the knell of feudalism and it became the landmark in the Kerala's agricultural sector and a stepping-stone for further reforms in this field. Cash Crops like coconut, rubber, tea, coffee, pepper, cardamom, areca nut, ginger, nutmeg, cinnamon etc. and food crops paddy tapioca etc. gives the agricultural sector of Kerala a distinct flavour. The agro climatic conditions in Kerala suite the cultivation of a variety of seasonal and perennial crops. Fifteen principle crops (Rice, pulses, coconut, rubber, tea, coffee, pepper, cardamom, areca nut, ginger, nutmeg, cinnamon, paddy tapioca and other plantations) are cultivated from the net areas sown of 21,11,471 hector in the State. Art & Culture Culturally, Kerala presents a pageant not found anywhere else in India. The famous pantomime dance-drama, Kathakali, the Sopana style of music, the contributions of Swathi Thirunal and Raja Ravi Varma in the realms of music and painting respectively are some of Kerala's unique contributions which have enriched the cultural heritage of India. Kerala's folk music, though not refined, is rich with a rugged beauty that is really genuine, with its rhyme and rhythm. These are mostly devotional in nature, like the Sarpapattu, Bhadrakalipattu, Ayyappanpattu etc. The Thullalpattu demands the skill and artistry of a professional. Among the instrumental performances, Thayampaka, Panchavadyam and Kelikottu deserve special mention. The chenda, and chengala are some of the typical percussion instruments of Kerala. Although Carnatic music is in vogue in Kerala as the classical music, Kerala appears to have evolved a somewhat distinctive style of singing known as the sopana style. It is believed that this style derived its name from the sopana or flight of steps leading to the sreekovil (sanctum sanctorum) the place for the ritual singing of Ashtapadi. Kathakali has adopted this style of singing which is low in tempo and emotional in content. Geography Kerala is a land that lies between the high hill ranges of the Sahyadris in the east and the Arabian Sea (Lakshadweep Sea) in the west. Kerala, gifted with mountains, valleys, trees, a wide variety of plants and grasslands has a share of just 1.2% of the total area of India. This region, with a varying topography, fertile soil and an ideal climate has been an abode of man from time immemorial. Kerala is located between latitudes, 8°.17'.30" N and 12°. 47'.40" N and longitudes, 74°.27'47" E and 77°.37'.12" E. It has an area of 38,863 sq.km. Climate of Kerala is different from that of the other Indian States. According to meteorological data, Kerala receives rain around 286 days in a year. Kerala's average annual rainfall is about 300cm. Southwest monsoon (June to September) and Northeast monsoon (October to December) are the two rainy seasons of Kerala. After the North East monsoon (December) Kerala falls gradually into the winter season. January is the driest month. After the winter season comes summer. Isolated rains will be there during these seasons with thunder storms. During summer the mean diurnal temp in the plains is between 320c and 360c. Diurnal range of temp is at its maximum during this season. Kerala is rich in rivers and backwaters. 44 rivers (41 west flowing and 3 east flowing) cut across Kerala with their innumerable tributaries and benches. The back waters form an attractive and economically valuable feature of Kerala. All rivers in Kerala are rainfed. Although they are perennial, they become lean in summer. In Kerala about 78041 cubic meters of water is lost annually through rivers in the form of run off. Out of this only about 10300 cubic meters form part of the sub-surface water,i.e., less than 14%. Red soil, Laterite soil, coastal alluvium soil, Riverine alluvium, forest soils and black soil are the types of soil in Kerala. Laterite soil covers an area of about 68% of the total area of the state. Travel & Tourism Transportation is an integral part of the commercial and social development of the Nation. The infrastructure for travel consists of roads, bridges and other transport modes like railways, airways and inland waterways. Kerala can be proud of the fact that it has a good road network compared to other states in India. The railway divisions at Thiruvananthapuram, Palaghat, Madhurai and Slem jointly carry out transport operations in Kerala. The railway network extends over 1148 route Kms in Kerala of which 111.14 km are meter gauge. The present railway system is mainly costal and does not reach the major agricultural and plantation areas of the State. The waterways in Kerala are successfully used for Commercial Inland Water Transport and Travel. There are 41 navigable rivers in Kerala. The total length of the Inland Waterways in the State is 1687 kms. Kerala has three airports. They are located in Thiruvananthapuram (Capital City of Kerala), Kochi and Kozhikkode and handling both international and domestic flights. Out of these three international airports Thiruvananthapuram and Kozhikkode airports are owned by Government of India and that at Kochi is owned byGovernment of India and that at Kochi is owned by Cochin International Airport Ltd (CIAL), a company set up by Government of Kerala with public private participation. Tourism India's most idyllic State, Kerala is today one of the most sought after tourist destinations in the world. Today Kerala Tourism is a global super brand and is recognized as pioneer and trend setter in the country. Its unique culture and traditions, coupled with its varied demography has made Kerala one of the most popular tourist destinations in the world. Apart from being a tourist destination, Kerala is also India'smost advanced society, cleanest and most peaceful state. 'Responsible Tourism' is adopted as the cornerstone for the tourism development in the state. Better known as "Gods Own Country", Kerala offers a host of exciting holiday options. Spread out across the year is specially designed packages that highlight the State's attractions, and prove beyond doubt that the season never ends in this beautiful land. Tourist Places in Kerala Thiruvananthapuram Kollam Pathanamthitta Alappuzha Kottayam Idukki Ernakulam Thrissur Palakkad Malappuram Kozhikode Wayanad Kannur Kasaragod क्षेत्रफल ;38,863 वर्ग किलोमीटर जनसंख्‍या ;3,33,87,677 * राजधानी; तिरूवनंतपुरम मुख्‍य भाषाएं ;मलयालम केरलः एक नजर में पश्चिमी घाट की पहाडि़यों से घिरा हुआ केरल प्रांत भारतीय प्रायद्वीप का दक्षिण पश्चिमी भाग है। इसके पूरब में पश्चिमी घाट की सबसे ऊंची चोटियां अनामुड़ी और अगास्त्यारकुडम और पश्चिम में अरब सागर है। उत्तरपूर्व मानसून (अक्टूबर-नवंबर) और दक्षिण-पश्चिम मानसून (जून-अगस्त) इसे सदैव हराभरा रखते हैं। पहाड़ों, घाटियों और झीलों की वजह से इसे 'देवताओं का देश' की उपाधि से नवाजा जाता है। भौगोलिक स्थिति की बात करें तो केरल उत्तरी अक्षांश पर 8018' और 12048' के बीच और पूर्वी देशांतर पर 74052' और 77022' के बीच है। जीवंत विरासत इस प्रांत की लंबी और आपस में जुड़ी हुईं झीलें मछलियों और सीपियों की समृद्ध स्रोत हैं। इन झीलों के किनारे नारियल के बाग और धान के खेत इसकी समृद्धि को और बढ़ा देते हैं। केरल के एक ओर भारत का राष्ट्रीय जलमार्ग-3 है, जो दक्षिण में तिरुवनंतपुरम से लेकर इस प्रांत के कई उत्तरी जिलों तक फैला हुआ है। इस प्राचीन जलमार्ग से व्यापारी विशाल नौकाओं से पोर्ट ऑफ मुजिरिस (वर्तमान कोडुंगाल्लूर), अलेप्पो (वर्तमान अलाप्पुझा), आयी (वर्तमान विझिंजम), कोल्लम और बायपोर में माल ले जाते थे। ये व्यापारिक स्थल पहले रोमन और बाद में चीन, सीरिया, अरब देश के व्यापारियों से भरे पड़े रहते थे। हाल की सदियों में यह जल मार्ग यूरोपीय व्यापारियों का भी पसंदीदा बन गया। वर्तमान में यह पर्यटन और आरामदायक नौकाओं के लिहाज से स्वर्णिम पथ माना जाने लगा। केरल के आपस में जुड़ी हुई कुछ झीलों में दुनिया की सबसे जोशीली नौका दौड़ का आयोजन किया जाता है। मसलन- नेहरू ट्रॉफी, उथरुट्टाथी और अरण्मुला नौका दौड़। यहां के जल मार्ग की पूरी लंबाई 1687 किलोमीटर है। कोवलम वारकाला, चेरायी, मुझुप्पिलांगाडु और बेकाल के प्रसिद्ध समुद्री तट राष्ट्रीय जलमार्ग-3 के निकट हैं। यह तिरुवनंतपुरम, कोच्चि, कोझिकोड के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों और नवनिर्मित कन्नूर हवाई अड्डे से भी संपर्क में हैं। प्रांत के दक्षिणी छोर में पलक्कड़ से बेंगलूरू जाने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग 47 और कोच्चि से मंगलोर तक मुंबई की ओर जाने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग 17 है। इनके अलावा, प्रांतीय राजमार्ग मसलन-कोच्चि-मदुरै, तिरुवनंतपुरम-तेनकासी, कोझिकोड़-मैसूर, वाडाकारा-विराजपेथ्था-बंगलूरू रोड हैं। प्रांत में कुल 1,54,679 किलोमीटर लंबी सड़कों के साथ केरल संपर्क मार्ग के मामले में देश में अव्वल है। केरल के बारे मेंकृषि और सिंचाईंक्षेत्रफलकला और संस्कृतिजनसांख्यिकीअर्थव्यवस्थाशिक्षापर्व और त्योहारभूगोलस्वास्थ्यइतिहासउद्योग और खनिजबुनियादी ढांचा और संचारप्राकृतिक संसाधनकेरल की राजधानीयात्रा एवं पर्यटनप्रमुख भाषापिन कोड (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं)एसटीडी कोडदेश में केरल का योगदान ऐतिहासिक दृष्टिकोण से देखने पर पता चलता है कि भारतीय राष्ट्रीयता में केरल का योगदान अद्वितीय है। भारतीय उपमहाद्वीप में भारत वर्ष की अवधारणा हमेशा से बौद्धिक और भावनात्मक एकजुटता की रही है। यहां तक कि जब भारत पर विदेशी शासकों का राज था, तब भी भारत की छवि ऐसी ही थी। जब बौद्ध और जैन मतवलंबियों का प्रभाव बढ़ रहा था, उसी वक्त केरल में कोच्चि के निकट एक गांव कलाडी में श्री शंकराचार्य का उदय हुआ। शंकराचार्य ने पूरे भारत वर्ष में अपने मठों की स्थापना की और वेदांत को बढ़ावा दिया। केरल के तटों पर विदेशी प्रभावों के साथ गंभीर टकराव के फलस्वरूप संवाद बढ़े और पड़ोसियों की आस्था के प्रति सहिष्णुता का वातावरण बना। बीसवीं सदी की शुरुआत में श्रीनारायण गुरु ने हिंदू शास्‍त्रों को पुनर्विश्लेषण कर सही भावना और तर्क के साथ केरल में धर्मनिरपेक्ष अवधारणा को बढ़ावा दिया। भारत वर्ष के लिए केरल का यह सबसे बड़ा योगदान है। विकास का केरल प्रारूप विकास के संदर्भ में केरल महत्वपूर्ण स्थिति में रहा है। इस प्रांत ने सामाजिक कल्याण के सभी मानकों को पूरा करने में सफलता पाई है, जिसकी तुलना दुनिया के विकसित देशों से की जा सकती है। केरल ने दो दशक पहले ही पूर्ण साक्षरता हासिल कर ली। वहीं प्रांत में शिशु मृत्यु दर सबसे कम है। स्त्री और पुरुष दोनों की ही जीवन प्रत्याशा 71 वर्ष है, जो देश में सर्वोच्च है। प्रांत में मातृ मृत्यु दर और जन्म दर भी सबसे कम है। केरल की इस शानदार उपलब्धि ने अर्थशास्त्रियों को इसे एक आर्थिक चमत्कार के रूप में देखने को प्रेरित किया, जबकि केरल में प्रति व्यक्ति आय साधारण है। इन उपब्धियों के पीछे कई कारण रहे हैं। मसलन- प्रांत में शिक्षा का आबादी के सभी वर्गों में विस्तार हुआ है, जिस पर डॉ अमर्त्य सेन ने भी महत्वपूर्ण रूप से जोर दिया है। बड़े पैमाने पर अनिवासी जनता और पलायन कर चुके लोग वापस लौट चुके हैं। रबर और मसालों जैसे महत्वपूर्ण नगदी फसलों की सफल खेती, सहकारी आंदोलन के प्रसार, शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र में सामाजिक संगठनों की सेवाएं और मजदूरी की ऊंची दर के साथ केरल लोकतांत्रिक क्रांति लाने वाला पहला प्रांत है। इस बात में भी कोई आश्चर्य नहीं है कि दुनिया के इतिहास में मतदान के जरिए एक कम्युनिस्ट सरकार लाने की घटना इस प्रांत में हुई। कुडुम्बाश्री भूमि सुधार कार्यक्रम को लागू करने के मामले में केरल देश का पहला प्रांत है। यहां विकास की विकेंद्रिकित व्यवस्था को प्रोत्साहित किया जा रहा है। ग्राम पंचायत के अंतर्गत कुडुम्बाश्री नाम से चलाई जा रहा इस योजना के तहत हर स्थान में परिवारों की एक मंडली बनाई जा रही है। केरल के विकेंद्रिकित विकास की इस प्रणाली को दूसरे प्रांतों, यहां तक की विदेशों में एक माडल के रूप में देखा जा रहा है। उल्लेखनीय है कि केरल एक मात्र प्रांत हैं, जिसके सभी गांवों में अस्पताल है। इतना ही नहीं संचार के आधारभूत ढांचे के मामले में भी यह प्रांत अव्वल है। विकासशील अर्थव्यवस्था प्रांत के आर्थिक विकास पर ध्यान दिया जाए तो पता चलता है कि तृतीयक या सेवा क्षेत्र ने पिछले वर्षों में असाधारण और लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है। हालांकि औद्योगिक क्षेत्र में विकास बहुत कम संतोषजनक रहा है। इसके कई कारण भी रहे हैं, जिसमें इस प्रयोजन के लिए उचित कीमत पर भूमि उपलब्ध न हो पाना प्रमुख है। राज्य सरकार ने प्रांत में आईटी उद्योग लगाने की दिशा में तेजी से कदम बढ़ा रही है। परिणामस्वरूप आईटी उत्पादों के निर्यात में उल्लेखनीय वृद्धि दिखाई दे रही है। इन सबके बावजूद केरल की विशेष पहचान उसके पर्यटन उद्योग से है, जो तेज दर से बढ़ रही है। समुद्र तटों और झीलों के अलावा वागामोन, मुन्नार, थेक्काडी और वायनाड जैसे हिल स्टेशन बड़ी तादत में पर्यटकों को लुभा रहे हैं। इन सभी विशेषताओं के अलावा, केरल में दुनिया का सबसे बड़ा थोरियम भंडार है। भारत के एकबार थोरियम लेजर आइसोटोप को अलग करने की प्रौद्योगिकी प्राप्त करने के बाद ये भंडार देश की आर्थिक तरक्की में मील का पत्थर साबित होंगे, क्योंकि इन भंडारों से खाड़ी देशों में तेल उत्पादन से कहीं ज्यादा ईंधन उत्पाद मिलने का अनुमान है। खाद्यान्न उत्पादन में बढ़ोतरी कृषि के मोर्चे पर केरल की खाद्य फसलें उसकी जरूरतों के लिए पर्याप्त नहीं है। धान की खेती के रकबे और उपज में लगातार गिरावट आई है। पिछले कुछ वर्षों में धान का उत्पादन 13 लाख टन से गिर कर 6.29 लाख टन हो गया है। हालांकि की प्रांत परती भूमि पर खेती धान को एक हद तक बढ़ाने और खेती के बेहतर तरीकों के इस्तेमाल को प्रोत्साहित कर पैदावार को बढ़ावा देने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके परिणाम बेहद उत्साहवर्धक हैं। केरल देश में प्राकृतिक रबर का सबसे बड़ा उत्पादक है। साथ ही काली मिर्च, इलायची, जायफल, दालचीनी आदि जैसे मसालों का भी सबसे बड़ा उत्पादक है। समुद्र से संबंधित वाणिज्य में संभावनाएं केरल में छोटे बंदरगाहों की श्रृंखला के साथ लंबे समुद्र तट ने प्रांत में मछली पालन क्षेत्र के विकास को बढ़ावा दिया। इसके चलते मछली पालन केरल की अर्थव्यवस्था और रोजगार के स्रोत के एक महत्वपूर्ण घटक के रूप में विकसित हुआ है। कोच्चि पोर्ट और कोचीन शिपयार्ड की वजह से कोच्चि को व्यावसायिक गतिविधि का केंद्र बना दिया है। केन्द्र सरकार के अंतर्गत वालारपाडम में ट्रांसशिपमेंट टर्मिनल बनाया जा रहा है। इससे आने वाले कुछ वर्षों में दक्षिणी क्षेत्र में वाणिज्य में वृद्धि होगी। भविष्य में राज्य सरकार द्वारा विझिजम में प्रस्तावित अंतर समुद्र बंदरगाह यदि वास्तविकता बन जाता है तो यह प्रांत पूरे दक्षिण एशिया में एक प्रमुख वाणिज्यिक केंद्र बनने की ओर अग्रसित हो जाएगा। source by national portal  

Advertisements


Poll

स्कूली बच्चों को कोरोना महामारी में कैसे पढ़ाना चाहिए?

  • ऑनलाइन
  • ऑफलाइन
  • कह नहीं सकते