You are here: India / world States and Uts

Odisha

Odisha

Area- 1,55,707 sq. km Population -4,19,47,358 * Capital -Bhubaneshwar Principal Languages- Oriya Odisha: At a Glance The name Odisha is derived from Sanskrit word "Odra Vishaya" or "Odra Desa". The ancient province of "Odra desa" or "Or-desa" was limited to the valley of the Mahanadi and to the lower course of the Subarnarekha River. It comprised the whole of the present districts of Cuttack and Sambalpur and a portion of Midnapore. It was bounded on the West by Gondwana, on the North by the wild hill states of Jashpur and Singhbhum, on the East by the sea and on the South by Ganjam. The Odisha state, which was once a land of Kings and Kingdoms, now boasts of being rich source of natural resources. Its people, temple architecture, classical dance, religions, fairs and festivals, unique handlooms and handicrafts, green woodlands, rock caves, charming blue hills have always attracted historians, tourists and travellers from all over the world. Its rich history, revolutionary freedom movement, fascinatingly sculptured temples and monuments, tribal life characterized by dance, music, rituals, hunting, gaiety and wild ways have become important topics of research for great historians and scholars. About Odisha The name Odisha is derived from Sanskrit word 'Odra Vishaya' or 'Odra Desa'. The ancient province of 'Odra desa' or 'Or-desa' was limited to the valley of the Mahanadi and to the lower course of the Subarnarekha River. It comprised the whole of the present districts of Cuttack and Sambalpur and a portion of Midnapore. It was bounded on the West by Gondwana, on the North by the wild hill states of Jashpur and Singhbhum, on the East by the sea and on the South by Ganjam. The Odisha state, which was once a land of Kings and Kingdoms, now boasts of being rich source of natural resources. Its people, temple architecture, classical dance, religions, fairs and festivals, unique handlooms and handicrafts, green woodlands, rock caves, charming blue hills have always attracted historians, tourists and travellers from all over the world. Its rich history, revolutionary freedom movement, fascinatingly sculptured temples and monuments, tribal life characterized by dance, music, rituals, hunting, gaiety and wild ways have become important topics of research for great historians and scholars. Agriculture & Irrigation Odisha is primarily an agrarian economy having nearly 30% contribution to the Net State Domestic product (NSDP) with 73 percent of the work force engaged in this sector. The cropped area is about 87.46 lakh hectares out of which 18.79 lakh hectares are irrigated. Climate and soil play a vital role in Odisha's agriculture economy. The total cultivable land exploited for cropping is about 40% of the total geographical area and the exploitation is comparatively more in the coastal districts of Odisha i.e. Balasore, Bhadrak, Cuttack, Ganjam, Jajpur, Jagatasinghpur, Kendrapara, Khurda, Nayagarh, Puri etc. Fairs and Festivals The state of Odisha is considered unique apart from other states of India due to a reason, i.e., here people celebrate more than 13 festivals in twelve months. The festivals of Odisha are designed in such a manner that it has relevance with science, spiritualism, history, mythology etc. One of the most amazing acts is that festivals and fairs of Odisha differ from one region to another. This also means that every festival is uniquely celebrated and makes the Oriya bonding even tighter. In the temple of Lord Jagannath many festivals and fairs are celebrated where people of each caste, color and creed get a chance to participate. It is the Jagannath cult, which has shown the seeds fellow-feeling, not only in the soil of Odisha but also in soil of India. Through a number of fairs and festivals, Odisha gets a chance to extend its hands to human society for brotherhood, because Odisha soil believes in "Vasudheiba Kutumbakam". Geography of Odisha The state of Odisha lies within the latitudes 17.780 & 22.730 and longitudes 81.37 E and 87.53E.Geographically the state is bounded by the states of West Bengal on the North East, Jharkhand, on the North, Chhatisgarh on the west, and the Andhra Pradesh on the South, the Bay of Bengal on the east. The state has costal line of about 450kms the state extends over an area of 155,707 sq. kms. which accounts about 4.87% of total area of India. According to 2001 census, the state has total population of 36,706,920 out of which 18,612,340 are male and 18,094,580 are female. Industries Odisha is one of the important states of India which is endowed with varieties of mineral resources. The mineral resources of Odisha have reputation for being qualitative for industries. The mineral resources of Odisha include Iron ore, Manganese, Coal, Bauxite, Dolomite, Tin, etc. Mineral resources have played an important role to make Odisha hot destinations for industries. Because of mineral resources big industries, like Rourkela Steel Plant, National Aluminum Company, National Thermal Power Corporation, have established their positions not only in India but also in world market. Besides those, reforms in infrastructure in recent years have created an atmosphere conducive for major industries of the world to look forward to Odisha as an epi-centre for industrial growth. In Eastern India, Odisha is really growing in real sense to become an industrial hub in the coming years. Tourist Places of Odisha On the eastern coast of India, perpetually washed by the blue waters of the Bay of Bengal, lies the many splendour of State of Odisha. Endowed with a rich cultural heritage of old world charms and bestowed liberally with the bounties of nature, sometimes tender, sometimes awe-inspiring, it is a kaleidoscope of past splendours and present glamour, a fascinating state with unspoiled beaches, sprawling lakes, luxuriant forests, teeming wildlife, superb monuments, exotic handicrafts, traditional tribes, colorful fairs and festivals, scintillating music and dances. It is a land of unforgettable memories and hidden treasures. Many parts of this fascinating land remain relatively unexplored. Odisha Tourism at a Glance Traditionally known as the land of Lord Jagannath, Odisha is a potential State for tourists of various interests. The legend of Nilamadhab associated with Kantilo is thought provoking. The lush green forests of Ushakothi and Similipal filled with the chirping of birds and rich wild life are much-needed oasis. The biosphere reserve of Nandankanan, only 20 kms. from Bhubaneswar can be interesting for any visitor regardless of age and sex. The lion safari and white tiger safari have added news features. The majestic Mahanadi gorge at Tikarapara with the added attraction of the Crocodile Sanctuary is a must for the wild life lovers. Millions of Olive Ridley turtles come to Gahirmatha twice a year to lay eggs. Odisha has a paradise for the birds as well as in the Chilika Lake which is the largest brackish Water Lake in Asia. The Lake is dotted with a host of Islands with their romantic names like Honeymoon Island, Breakfast Island etc. Dancing Dolphins are an added attraction of the place. The perennial and precipitous water falls at a number of places like Bagra, Duduma, Harishankar, Nrusimhanath, Pradhanpat, Khandadhar, Berehipani, Joranda, etc. formed against enthralling hills of scenic beauty provide the tired travellers with a cool breeze and ice cold water to relieve them off the clutches of the scorching sun in the summer. More refreshing in the winter are the hot sulphur springs at Atri, Taptapani, Deulajhari and Tarabalo. The lovely beaches of Odisha stretching over 400 kms. from Chandaneswar to Gopalpur are still virgin and rated among the best in the world. The beach at Chandipur in the district of Balasore has a unique individuality of its own. To break the monotony of travelling, Odisha offers to the tourists numerous traditional fairs and festivals which are observed with colorful pomp and ceremony. The grandest among which is the Ratha Yatra at Puri. Other festivals include Dhanu Yatra at Bargarh, Sitala Sasthi at Sambalpur, Nila Parva at Chandaneshwar, Chhou dance at Baripada etc. source by national portal क्षेत्रफल-1,55,707 वर्ग कि.मी.  जनसंख्‍या- 4,19,47,358 *  राजधानी-भुवनेश्‍वर मुख्‍य भाषा-उड़िया ओडिशा का इतिहास: संक्षेप में ईसा पूर्व प्रथम शताब्दी के मध्य के बाद खारावेला के साथ कलिंग का नाम और भी चर्चित हो गया, वह एक जैन अनुयायी और महान विजेता था। दूसरे अन्य महान शासक केशरी साम्राज्य और पूर्वी गंगा साम्राज्य से संबंधित थे। गंगा से गोदवरी तक फैले सामाज्य का दक्षिण-पूर्वी राज्यों जैसे जावा, बोर्नियो के बीच सामुद्रिक व्यापार समृद्धि और विकास के स्वर्ण युग आ गया। सातवीं से तेरहवीं शताब्दी के बीच कलिंग का वास्तुकला विद्यालय ने काफी विकास किया। मुक्तेश्वर मंदिर, कोर्णाक स्थित सूर्य मंदिर, लिंग राज मंदिर और पुरी का जगन्नाथ मंदिर अपने वास्तुकला के कारण पूरी दुनिया में जाने जाते हैं। ब्रिटिश् शासन के पूर्व और उसके दौरान कलिंग में कई महानायकों का जन्म हुआ,जैसे बख्शी जगबंधु, समुद्र गुप्त और हर्ष शिलादित्य। प्राजना और हिहुआन-तसांग के काल में बौद्ध धर्म ने नई ऊंचाइयों को छुआ। यह प्रसिद्ध चीनी तीर्थकार पुष्पागिरी विश्वविद्यालय और रत्नागिरी-ललितगिरी-उदयगिरी के बौद्ध्‍ मठों पर अब बोलते हुए देखे जा सकते थे। आदी शंकराचार्य, रामानुजाचार्य और श्री चैतन्य जैसे संतों ने पुरी जैसे धार्मिक स्थान की स्थापना की। जयदेव ने विश्वप्रसिद्ध्‍ गीत गोविंद की रचना की। ओडिशा में भक्ति मत और पंच सखा यानी श्री जगन्नाथ दास, श्री अच्चयुतानंद दास, श्री बलराम, अनंत और यसोबंत सोलहवीं शताब्दी में आया। ये लोग उस दौर में धर्म के प्रति निष्ठावान और शास्त्रों के ज्ञाता थे। कवि समर्थ उपेन्द्र भनजा, कवि सूर्य बलदेव राठा, राधानाथ राय, फकिर मोहन सेनापति, पंडित गोपाबंधु दास, पंडित नीलकंठ दास, गोदवरी मिश्रा, कालंदी चरण पाणिग्रही, सच्चिदानंद रौत्रे और कई अन्य लोगों ने ओडिशा की भाषा और साहित्य में अमूल्य योगदान दिया।उत्कल गौरव, मधुसूदन दास, महाराज कृष्ण चंद्र गजापति, श्री रामचंद्र भनाजादेव, श्री बिश्वनाथ दास, श्री नवकृष्ण चौधरी, डॉ हरेकृष्ण महाताब, श्री विजयनंद पटनायक आधुनिक ओडिशा के निर्माता थे। कृषि एवं सिंचाई ओडिशा की अर्थव्यवस्था कृषि आधारित है, सकल घरेलू उत्पाद (एनएसडीपी)में इसकी भागीदारी 30 प्रतिशत है साथ ही इस क्षेत्र में 73 प्रतिशत लोग जुड़े हुए हैं। कृषि योग्य भूमि का कुल क्षेत्रफल 87.46 लाख हेक्टेयर, जिसमें 18.79 लाख हेक्टेयर क्षेत्र सिंचित है। ओडिशा का मौसम और मिट्टी यहां की कृषि अर्थव्यवस्था में मुख्य भूमिका निभाते हैं। कृषि योग्य भूमि का उपयोग अनाजों के उत्पादन में हो रहा है,जो राज्य की कुल भौगोलिक क्षेत्र का 40 प्रतिशत है और मुख्य रूप से तटीय क्षेत्रों जैसे बालासोर, भद्रक,कटक,गंजम,जाजपुर,जगतसिंहपुर,केंद्रपारा,खुर्दा,नयागढ़, पुरी आदि में उत्पादन किया जा रहा है। शिक्षा 1 अप्रैल 1936 को एक अलग राज्य बनने के बाद ओडिशा पूर्वी भारत में शिक्षा का केंद्र बन गया। आजादी के बाद ओडिशा के शिक्षा तंत्र में कई सराहनीय परिवर्तन किए गए। परिवर्तनों के बाद ओडिशा में शिक्षा का स्तर काफी उच्च हो गया। साथ ही साथ सरकार ने भी ओडिशा में शिक्षा के स्तर को और आकर्षक बनाने के लिए कई पहल किए। ओडिशा के शैक्षणिक स्तर ने कई इंजीनियरिंग और व्यावसायिक संस्स्थानों को आधार प्रदान किया है। शिक्षा के आधारभूत सुविधाओं के कारण ओडिशा के अलग-अलग संकायों के विद्यार्थी विश्व स्तर पर सम्मान पा रहे हैं। हाल के वर्ष में ओडिशा में भारत के विभिन्न क्षेत्रों से विद्यार्थी उच्च ग्रहण करने के लिए आ रहे हैं। इससे कहा जा सकता है कि नब्बे के दशक के बाद शिक्षा के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव हुए। अब ओडिशा आम शिक्षा, तकनीकी शिक्षा, और व्यावसायिक शिक्षा के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ‍ आधारभूत सुविधाएं प्रदान कर रहा है। कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के संस्थान उत्सुकतापूर्वक इसे अपने लक्ष्य के रूप में चुन रहे हैं क्योंकि यहां शिक्षा का भविष्य उज्जवल और खुशहाल है। मेले और पर्व साल के 12 महीनों में 13 त्योहर मनाने के कारण ही ओडिशा राज्य को देश के राज्यों की तुलना में अनोखा है। यहां मनाए जाने वाले त्योहार विज्ञान, अध्यात्म, इतिहास, पौराणिकता आदि के आधार पर मनाए जाते हैं। ओडिशा के मेले और पर्वों की सबसे बड़ी खासियत है अलग-अलग क्षेत्रों में इसकी विभिन्न्ता। इसका अर्थ यहां हर पर्व का अलग अंदाज में मनाया जाता है जो ओडिशा भाषियों की एकता को और भी मजबूती प्रदान करता है। जगन्नाथ मंदिर में कई पर्व मनाए जाते हैं और कई मेले लगते हैं, जहां हर जाति, रंग और समुदाय के लोगों को शामिल होने का अवसर मिलता है। यह जगन्नाथ जी की महिमा ही है कि इसका प्रभाव न केवल ओडिशा में बल्कि पूरे भारतवर्ष में नजर आता है। इन त्योहारों और मेलों के जरिए ही ओडिशा के लोगों को एक-दूसरे से जुड़ने का मौका मिलता है, क्योंकि यहां लोग "वसुधैव कुटंबकम" पर विश्वास करते हैं। भूगोल ओडिशा राज्य 17.780 और और 22.730 अक्षांश और 81.37पूर्व और 81.53 पूर्व देशांतर के बीच पड़ता है। भौगोलिक रूप से यह राज्य उत्तर-पूर्व में पश्चिम बंगाल, उत्तर में झारखंड, पश्चिम में छत्तीसगढ़ और दक्षिण में आंध्र प्रदेश और पूर्व में बंगाल की खाड़ी से घिरा हुआ है। राज्य का तटीय क्षेत्र लगभग 450 किलोमीटर तक है और इस क्षेत्र में यह 155, 707 वर्गकिलोमीटर तक आगे बढ़ गया है। यह भारत के कुल 4.87 % क्षेत्र के बराबर है। 2001 की जनगणना के अनुसार राज्य की कुल आबादी 36, 706,920 है, जिनमें 18,612, 340 संख्या पुरुषों और 18,094,580 स्त्रियों की संख्या है। इतिहास ओडिशा शब्द संस्कृति के ओद्रा देसा शब्द से बना है। प्राचानी ओद्रा देसा या ओर्डेसा की सीमाएं महानदी की घाटी से लेकर सुवर्णरेखा नदी की घाटियों तक थी। वर्तमान में यह क्षेत्र कटक जिले से लेकर संबलपुर एवं मिदनापुर तक है और गोंडवाना से लेकर जसपुर, सिंहभूम तक, दक्षिण में यह गंजम तक फैला हुआ है। ऐतिहासिक रूप से कहा जाए तो यह राज्य महाभारत कालीन कलिंग राज्य का हिस्सा था। यह कई शक्तिशाली राजाओं तथा राजवंशों का गढ़ था। राज्य के पास कला, वास्तुकला, संस्कृति तथा धर्म का प्रचुर भंडार है, जिसकी ओर दुनियाभर के लोग आकर्षित होते हैं। उद्योग ओडिशा भारत के महत्वपूर्ण राज्यों में से एक है, जो कई प्रकार के खनिज स्रोतों से पूरी तरह संपन्न है। उद्योगों के लिए ओडिशा के खनिज स्रोत उच्च स्तरीय हैं। ओडिशा में मुख्य रूप से लौह-अयस्क, मैगनीशियम, कोयला, बॉक्साइट, डोलोमाइट,टिन आदि खनिज पाए जाते हैं। ओडिशा के खनिज स्रोत इसे उद्योगों के लिए प्रमुख स्थानों में शामिल करता है। यही वजह है कि यहां राउरकेला स्टील प्लांट, राष्ट्रीय एलुमिनियम कंपनी, नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन की स्थापना की गई है, जो न केवल देश में बल्कि विश्वभर के बाजारों में अपनी अलग पहचान रखते हैं। इन सबके अलावा राज्य में उद्योग के आंतरिक ढांचे में काफी परिवर्तन किए गए हैं, जिसकी वजह से विश्व के कई बड़े औद्योगिक केंद्र ओडिशा की ओर एक बेहतर भविष्य की आशा से देख रहे हैं। पूर्वोत्तर भारत में ओडिशा सही मायनों में विकास कर रहा है और आने वाले सालों में यह एक मुख्य औद्योगिक केंद्र के रूप में उभर सकता है। ओडिशा सरकार का लक्ष्य उद्योग तैयार करना, निवेशकों को सहायक माहौल देना है, जिससे कि राज्य में उद्योगों का विकास हो, लोगों को रोजगार मिल सके और आर्थिक स्थिति में सुधार हो। आईपीआर-2001 और ओडिशा उद्योग(सरलीकरण) एक्ट 2004 सरकार के ऊपर वर्णित लक्ष्यों को साकार करता है। वैसे भी ओडिशा एक मुख्य निवेश केंद्र के रूप में उदित हो चुका है, न केवल राष्ट्रीय बल्‍कि अंतरराष्ट्रीय निवेशकों के लिए भी। खासतौर से स्टील, एलुमिलियम, पेट्रो-कैमिकल, पावर, आईटी और आईटीईएस, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग, पर्यटन के अलावा कई और क्षेत्र प्रमुख हैं। ढांचागत विकास सरकार ने विकास के लिए निजी तथा सार्वजनिक भागीदारी से विकास कार्य शुरू किए हैं। इस भागीदारी से विकास के कई सफलतम कार्यों को निष्पादित किया गया है, जिनमें से पारादीप हरिदासपुर रेलवे लिंक, धमरा बंदरगाह एवं गोपालपुर बंदरगाह इत्यादि प्रमुख हैं। राज्य सरकार ने व्यापार तथा निर्यात को बढ़ावा देने व विदेशी आय बढ़ाने के लिए विशेष आर्थिक क्षेत्रों की स्थापना करना शुरू कर दिया है। पर्यटक स्थल देश का पूर्वी तट जो बंगाल की खाड़ी से लगा हुआ है, उसका एक बड़ा भूभाग ओडिशा की सीमा को घेरे हुए हैं। यह राज्य सांस्कृति, नैसर्गिक एवं समृद्ध इतिहास अपने में समेटे हुए है। यहां के समुद्री किनारे, झीलें, शानदार वन, वन्यजीव, अद्वितीय हस्तकौशल, यादगार स्मारक, अपनी संस्कृति से जुड़े वनवासी, रंगभरे उत्सव, संगीत तथा नृत्य आज भी अपनी आभा बिखेर रहे हैं। यहां के कई स्थल ऐसे हैं, जो आज भी वर्णित नहीं किए गए हैं। ओडिशा पर्यटनः एक दृष्टि में सामान्यतः ओडिशा को भगवान जगन्नाथ की भूमि के नाम से भी जाना जाता है। यहां पर्यटन की असीम संभावनाएं हैं और राज्य इनका दोहन भी कर रहा है। नीलमाधब की कहानी को कंटीलो के साथ जोड़ना काफी उत्तेजनापूर्ण है। ऊषाकोठी के हरे वन एवं सिमिलिपाल के जंगलों में पक्षियों की चहचहाहट इस क्षेत्र की ओर लोगों को आकर्षित करते हैं। भुवनेश्वर से बीस किलोमीटर की दूरी पर बने नंदनकानन के वन हर उम्र के लोगों को अपनी ओर खींचते हैं। शेर सफारी एवं बाघ सफारी यहां के मुख्य आकर्षणों में से एक हैं। वन्यजीवन को पसंद करने वालों के लिए महानदी का टिकरपड़ा मगरमच्छ अभयारण्य अपनी ओर खींचता है। वर्ष में दो बार ओलिव रिडले कछुए गहिरमाथा में आकर अंडे देते हैं तथा उनसे बच्चे निकलने के बाद यहां से चले जाते हैं। ओडिशा की चिलका झील एशिया की सबसे बड़ी खारे पानी की झील है। यहां आप अनगिनत प्रवासी पक्षियों को आसानी से देख सकते हैं। हनीमून टापू और नाश्ता टापू जैसे प्रसिद्ध टापू इसी झील की शोभा बढ़ा रहे हैं। डॉल्फिन मछलियों की अटखेलियां इस झील की खूबसूरती में चार चांद लगाते हैं। यहां के तेज प्रवाह वाले बारहमासी झरने बागरा, दुदुमा, हरिशंकर, नृसिंहनाथ, प्रधानपाट, खंडाधार, बरेहीपानी और जोरंदा यहां के आकर्षण को और भी बढ़ा देते हैं। इनसे बनने वाले मनोरम दृश्य को देखने के लिए पर्यटक काफी दूर-दूर से आते हैं। ग्रीष्मकाल में यहां आने वाले पर्यटक झरनों को देखकर अपनी सारी थकावट को भूल जाते हैं। इतना ही नहीं ठंड के मौसम में यहां के गर्म पानी के अटरी, तप्तपानी, दुलाझरी और तारबालो झरने लोगों को अपनी ओर खींचते हैं। ओडिशा के समुद्री तटों की लंबाई लगभग 400 किमी है, जो चंदनेश्वर से गोपालपुर तक फैला हुआ है तथा इसे विश्व का सबसे बडा समुद्री किनारा होने का सम्मान हासिल है। बालासोर जिले का चांदीपुर समुद्री तट भी अपनी एक विशिष्ठ पहचान रखता है। पर्यटन स्थलों के साथ ही ओडिशा अपने विभिन्न कलात्मक एवं सांस्कृतिक विरासतों, मेले तथा उत्सवों के लिए भी प्रसिद्ध है। इन उत्सवों में पुरी की रथयात्रा तो पूरे विश्व में विख्यात है। बरगढ़ की धनु यात्रा, संबलपुर की सीतला षष्ठी, चंदनेश्वर का नीला पर्व और बारीपदा का छोउ नृत्य भी यहां की प्रसिद्धि में बराबर का योगदान देते हैं। source by national portal    

Advertisements


Poll

स्कूली बच्चों को कोरोना महामारी में कैसे पढ़ाना चाहिए?

  • ऑनलाइन
  • ऑफलाइन
  • कह नहीं सकते