अब्दुल हमीद कैसर -जन्म: (5 मई, 1929)

May 05, 2017

अब्दुल हमीद कैसर (जन्म- 5 मई, 1929, झालावाड़, राजस्थान; मृत्यु- 18 जुलाई, 1998) भारत के जाने-माने देशभक्तों में से थे। कैसर विलक्षण व्यक्तित्व के धनी थे। ग़रीबों के लिए इनके दिल में बहुत प्यार था। इनके मन में बचपन से ही देशभक्ति की भावना जाग उठी थी, क्योंकि जिस विद्यालय में ये शिक्षा ग्रहण करते थे, वहाँ छात्रों में अंग्रेज़ी हुकूमत के विरुद्ध संघर्ष करने की भावना भरी जाती थी।


जन्म-
अब्दुल हमीद कैसर का जन्म 5 मई, 1929 ई. राजस्थान में झालावड़ ज़िले के एक छोटे से कस्बे बकानी में हुआ था। उनके पिता का नाम सैयद मीर मोहम्मद अली था। वे उस क्षेत्र के बहुत बड़े जागीरदार थे तथा रियासत काल में तहसीलदार जैसे बड़े ओहदे पर नियुक्त थे। श्री लखपति अपने चार-भाई बहनों में सबसे छोटे थे। उनका पूरा नाम सैयद मोहम्मद अब्दुल हमीद कैसर था। अब्दुल हमीद कैसर राजस्थान में अपने उपनाम 'लखपति' के नाम से ही प्रसिद्ध थे। वस्तुत: 1954 ई. में उनके नाम की एक लाख रुपये की लॉटरी खुली थी, उसके बाद से ही वे 'लखपति' के नाम से प्रसिद्ध हो गये। अब्दुल हमीद कैसर का बचपन बहुत कष्टमय ढ़ग से गुजरा। जब वे तीन वर्ष के थे, तब उनके पिता की मृत्यु हो गई। इसके बाद उनके पिता के रिश्तेदारों ने उनकी सम्पत्ति पर कब्ज़ा कर लिया। ऐसी विषम स्थिति में उनके परिवार के सदस्य उन्हें बकानी से बूँदी ले आये। उनका जीवन बचपन से ही संघर्ष एवं कष्टों से भरा हुआ था। अब्दुल हमीद कैसर ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा झालावाड़ एवं बूँदी में प्राप्त की। तत्पश्चात् अपने कोटा के हितकारी विद्यालय से 10वीं की परीक्षा दी। यह विद्यालय उस समय बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से जुड़ा हुआ था। 
अब्दुल हमीद कैसर विलक्षण व्यक्तित्व के धनी थे। अब्दुल हमीद कैसर का व्यक्तित्व बहुत प्रभावशाली था। जो भी व्यक्ति इनके सम्पर्क में आता था, वह प्रभावित हुए बगैर नहीं रहता था। इन्होंने अपने जीवन में पैसों के स्थान पर इंसानियत और मानवता को महत्त्व दिया। इनमें उदारता, सहिष्णुता एवं दयालुता आदि गुण कूट-कूट कर भरे हुए थे। 1961 ई. भारत के गृहमंत्री लाल बहादुर शास्त्री तथा स्वतंत्रता सेनानी, मणिक्य लाल वर्मा के सामने अब्दुल हमीद कैसर ने सौगन्ध खाकर भील, आदिवासी तथा मुल्तानी व ग़रीब जाति के लोगों से बिना फीस लिए उनके मुकदमों की पैरवी करने की प्रतिज्ञा की थी, जिसे उन्होंने जीवन-पर्यंत निभाया। सिर्फ सेवा भाव से ही उन्होंने जीवन के अंतिम समय तक उनके मुकदमों की नि:शुल्क पैरवी की। यह अपने आप में एक बहुत बड़ी बात है। इस कार्य से अब्दुल हमीद कैसर मानवता से भी ऊपर उठे थे। सम्पूर्ण भारतवर्ष में वे ऐसे पहले वकील थे, जिन्होंने ग़रीबों के मुकदमे निशुल्क लड़े थे। इससे पता चलता है कि ग़रीबों के लिए उनके दिल में कितनी सहानभूति एवं प्यार था। दुनिया में ऐसे लोग विरले ही होते हैं, जिनके दिल में मानव सेवा के ऐसे भाव होते हैं, श्री कैसर उनमें से एक थे। इस कार्य से आप मानवता से भी ऊपर उठकर आर्दश मानव की श्रेणी में आ गये। इनकी देशभक्ति, त्याग एवं गरीबों की सेवा जैसे कार्यों के कारण आपका जीवन हम सभी के लिए प्रेरणादायक एवं अनुकरणीय बन गया। ग़रीबों की नि:स्वार्थ भाव से की गई सेवा के लिए यदि हम उन्हें 'ग़रीबों का मसीहा' कह कर पुकारें, तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। जिस किसी में देश प्रेम, त्याग, ग़रीबों की सेवा, हिन्दू- मुस्लिम एकता का समर्थन एवं देश के लिए सर्वस्व अर्पण करने की तमन्ना होती है, वह वरेण्य हो जाता है। राजस्थान के स्वतंत्रता संग्राम के मुस्लिम देशभक्तों में लखपति का विशिष्ट स्थान है। जिन राष्ट्रीय मुसलमानों ने लीग की साम्प्रदायिक नीति का विरोध करते हुए हमेशा कांग्रेस का साथ दिया और आज़ादी के संर्घष में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई, उनमें से अब्दुल हमीद कैसर भी एक थे। वे राजस्थान के राष्ट्रवादी मुसमानों के शिरोमणि और स्वतंत्रता संग्राम के प्रसिद्ध सेनानी थे। अत: उनका नाम आज भी बड़े गर्व के साथ लिया जाता है। अब्दुल हमीद कैसर के देश प्रेम एवं त्याग के बारे में कवि की यह पंक्तियाँ उचित प्रतीत होती है-


तज स्वार्थ का मार्ग, अहिंसा को अपनाय,
शीश झुका चुपचाप पुलिस की लाठी खाये,
गये जेल, हथकड़ी हाथ में, कष्ट उठाये,
बहुत बहुत आशीष भारत माता से पाये।
अब्दुल हमीद कैसर के मन में बचपन से ही देशभक्ति की भावना जाग उठी, क्योंकि वहाँ छात्रों में अंग्रेज़ी हुकूमत के विरुद्ध संघर्ष करने की भावना भरी जाती थी। कोटा का हितकारी विद्यालय भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन से जुड़ा हुआ था। इस विद्यालय के प्राचार्य शम्भूदयाल सक्सेना पजामण्डल के प्रमुख नेताओं में से एक एवं प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी थे। अब्दुल हमीद कैसर तथा उनके हितकारी स्कूल के साथी छात्र रात भर जागकर कोटा शहर में गश्त करते थे। उन्होंने कुछ महीनों अध्ययन करना यह समझकर छोड़ दिया कि शायद अब अंग्रेजों का राज समाप्त होकर हमें आज़ादी मिलेगी और इस शासन का अंत होगा। इस लाठी-चार्ज का विरोध कोटा महराव राजा ने अनशन करके किया।
13 अगस्त, 1942 ई. को अंग्रेज सरकार ने शम्भूदयाल जी, हीरालाल जी जैन एवं वेणी माधव जी आदि कोटा के स्वतन्त्रता सेनानियों को गिरफ्तार कर रामपुरा की कोतवाली में बन्द कर दिया। यह गिरफ्तारी अंग्रेज सरकार के ईशारे पर कोटा स्टेट ने की थी। गिरफ्तारी की खबर आग की तरह कोटा में फैल गयी। इस पर प्रजा मण्डल के सदस्यों, हितकारी विद्यालय के छात्रों एवं नागरिकों ने रामपुरा कोतवाली को घेर लिया और धरना दिया। अब्दुल हमीद कैसर धरने में अग्रिम पंक्ति में बैठे हुए थे। इस समय वेणी माधव जी की पत्नी ने अपने पति को माला पहनाने के लिए कोतवाली के गेट पर से चढ़कर जाने का प्रयास किया, तो उन्हें रोक दिया गया। इससे भीड़ उत्तेजित हो गई तथा लाठी-भाटा जगं शुरू हो गई। कैसर एवं सक्सेना दोनों घायल हो गये। उन दोनों के सिर फट गये और टांके लगाने पड़े। उसी समय घुड़सवार सैनिकों को बुला लिया गया, जिन्होंने आन्दोलनकारियों को रोंदने का प्रयास किया। तत्पश्चात् गिरफ्तार आन्दोलनकारियों को पुलिस अन्यत्र स्थान पर लेकर चली गयी।
अब्दुल हमीद कैसर जब भी बूँदी आते थे, तो अपनी कमीज पर तिरंगी झण्डी लगाकर आते थे। इस खबर से अंग्रेज़ दीवान रॉर्ब्टसन नाराज़ रहने लगा, जो इस समय बूँदी स्टेट में मुजालमत थे। इसके बाद 1943 ई. में बनारस से मैट्रिक की परीक्षा पास करके कैसर ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया, तो बूँदी के अंग्रेज़ दीवान ने वहाँ से शिकायत करके विश्वविद्यालय प्रशासन से निलम्बित किया जाए क्योंकि वह अंग्रेज़ हुकूमत के विरुद्ध आन्दोलन में भाग लेता है। 1943 में मैट्रिक करके अलीगढ़ जाने से पूर्व कैसर ने बूँदी स्टेट में किसी तरह नौकरी प्राप्त कर ली तथा फिर नौकरी को छोड़कर अलीगढ़ विश्वविद्यालय में प्रवेश ले लिया। इससे बूँदी का अंग्रेज़ दीवान आग बबूला हो गया तथा नौकरी में मिली सारी तनख्वाह अब्दुल हमीद कैसर से वापस जमा करवाई। अलीगढ़ विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने के बाद कैसर ने स्वतंत्रता आन्दोलन में बढ़-चढ़कर भाग लिया। वे 1946 ई. में अलीगढ़ कांग्रेस के साधारण सदस्य बने जबकि उस समय वे इण्टरमिडियेट के छात्र थे।
आज़ादी का दीवाना एवं मानवता का मसीहा अब्दुल हमीद कैसर 18 जुलाई, 1998 ई. को इस संसार से विदा हो गया। इस दु:खद अवसर पर असंख्य लोगों ने उनकी सेवाओं को याद करते हुए अपने जनप्रिय नेता को भावभीनी विदाई देते हुए अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित की थी। स्वतंत्रता के इस पराक्रमी योद्धा की क़ब्र आज भी उनके त्याग एवं बलिदान की कहानी सुनाती है। यद्यपि कैसर आज हमारे बीच नहीं है, तथापि जनता उनको आज भी श्रद्धा और सम्मान के साथ याद करती हैं। इस प्रकार कैसर उच्च कोटि के विद्वान, प्रखरवक्ता, स्वतंत्रता सेनानी, ग़रीबों के मसीहा, साम्प्रदायिकता एकता के प्रतीक, त्यागी देशप्रेमी एवं देशभक्त थे।