जगदीशचन्द्र माथुर -मृत्यु: (14 मई, 1978)

May 14, 2017

जगदीशचन्द्र माथुर ( जन्म:16 जुलाई, 1917 - मृत्यु: 14 मई, 1978) हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकारों में से हैं जिन्होंने आकाशवाणी में काम करते हुए हिन्दी की लोकप्रियता के विकास में महत्वपूर्ण योगदान किया। टेलीविज़न उन्हीं के जमाने में वर्ष 1949 में शुरू हुआ था। हिन्दी और भारतीय भाषाओं के तमाम बड़े लेखकों को वे ही रेडियो में लेकर आए थे। सुमित्रानंदन पंत से लेकर रामधारी सिंह 'दिनकर' और बालकृष्ण शर्मा 'नवीन' जैसे दिग्गज साहित्यकारों के साथ उन्होंने हिंदी के माध्यम से सांस्कृतिक पुनर्जागरण का सूचना संचार तंत्र विकसित और स्थापित किया था।


परिचय-
जगदीशचन्द्र माथुर का जन्म 16 जुलाई, 1917 ई. खुर्जा, बुलंदशहर ज़िला, उत्तर प्रदेश में हुआ। प्रारंभिक शिक्षा खुर्जा में हुई। उच्च शिक्षा युइंग क्रिश्चियन कॉलेज, इलाहाबाद और प्रयाग विश्वविद्यालय में हुई। प्रयाग विश्वविद्यालय का शैक्षिक वातावरण औऱ प्रयाग के साहित्यिक संस्कार रचनाकार के व्यक्तित्व निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका हैं। 1939 ई. में प्रयाग विश्वविद्यालय से एम.ए. (अंग्रेज़ी) करने के बाद 1941 ई. में 'इंडियन सिविल सर्विस' में चुन लिए गए।
सरकारी नौकरी में 6 वर्ष बिहार शासन के शिक्षा सचिव के रूप में, 1955 से 1962 ई. तक आकाशवाणी- भारत सरकार के महासंचालक के रूप में, 1963 से 1964 ई. तक उत्तर बिहार (तिरहुत) के कमिश्नर के रूप में कार्य करने के बाद 1963-64 में हार्वर्ड विश्वविद्यालय, अमेरिका में विज़िटिंग फेलो नियुक्त होकर विदेश चले गए। वहाँ से लौटने के बाद विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर काम करते हुए 19 दिसम्बर 1971 ई. से भारत सरकार के हिंदी सलाहकार रहे। इन सरकारी नौकरियों में व्यस्त रहते हुए भी भारतीय इतिहास और संस्कृति को वर्तमान संदर्भ में व्याख्यायित करने का प्रयास चलता ही रहा।


अध्ययनकाल से ही उनका लेखन प्रारंभ होता है। 1930 ई. में तीन छोटे नाटकों के माध्यम से वे अपनी सृजनशीलता की धारा के प्रति उन्मुख हुए। प्रयाग में उनके नाटक 'चाँद', 'रुपाभ' पत्रिकाओं में न केवल छपे ही, बल्कि इन्होंने 'वीर अभिमन्यु', आदि नाटकों में भाग लिया। 'भोर का तारा' में संग्रहीत सारी रचनाएँ प्रयाग में ही लिखी गईं। यह नाम प्रतीक रूप में शिल्प और संवेदना दोनों दृष्टियों से जगदीशचन्द्र माथुर के रचनात्मक व्यक्तित्व के 'भोर का तारा' ही है। इसके बाद की रचनाओं में समकालीनता और परंपरा के प्रति गहराई क्रमशः बढ़ती गई है। व्यक्तियों, घटनाओं और देशके विभिन्न ऐतिहासिक स्थलों से प्राप्त अनुभवों ने सृजन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है।


मुख्य कृतियाँ-
भोर का तारा (1946 ई.),
कोणार्क (1950 ई.),
ओ मेरे सपने (1950 ई.)
शारदीया (1959 ईं),
दस तस्वीरें (1962 ई.), '
परंपराशील नाट्य (1968 ई.),
पहला राजा (1970 ई.)
जिन्होंने जीना जाना (1972 ई.)

जगदीशचन्द्र माथुर जी के प्रारंभिक नाटकों में कौतूहल और स्वच्छंद प्रेमाकुलता है। 'भोर का तारा' में कवि शेखर की भावुकता पर्यावरण में घटित करने या रचने का मोह भी प्रारंभ से मिलता है। परंतु समसामयिक को अनुभव के रूप में अनुभूत करके उसकी प्रामाणिकता को संस्कृति के माध्यम से सिद्ध करने का जो आग्रह उनके नाटकों में हैं उसकी रचनात्मक संभावना का प्रमाण 'कोणार्क' में है। परंपरा को माध्यम और संदर्भ के रूप में प्रयोग करने की कला में माथुर सिद्दहस्त हैं। परंतु इसका तात्पर्य यह नहीं कि यही उनका सब कुछ है, बल्कि उन्होंने रीढ़ की हड्डी आदि ऐसे नाटक भी लिखे जिनका संबंध समाज के भीतर के बदलते रिश्तों और मानवीय संबंधों से है। 'शारदीया' के सारे नाटकों में समस्या को व्यापक परिप्रेक्ष्य में रखकर देखने का आभास अवश्य है, परंतु समस्या मात्र का परिवृत्त इतना छोटा है कि वह किसी व्यापक सत्य का आधार नहीं बन पाती। वस्तुतः माथुर छायावादी संवेदना के रचनाकार हैं। यह संवेदना 'भोर का तारा' से लेकर 'पहला राजा' तक में कमोबेश मिलती है। यह अवश्य है कि यह छायावादिता नाटक के विधागक संस्कार और यथार्थ के प्रति गहरी संसक्ति के कारण 'कोणार्क' और 'पहला राजा' में काफ़ी संस्कारित हुई है।


प्रसिद्ध साहित्यकार कमलेश्वर के अनुसार जगदीशचंद्र माथुर एक साथ ही इंडियन सिविल सर्विस के वरिष्ठ प्रशासक, साहित्यकार और संस्कृति पुरुष थे। ज़माना नेहरू जी का था। ग़ुलामी से मुक्त होकर देश ने आज़ादी की साँस ली थी। परिवर्तन और निर्माण का दौर था। अंग्रेज़ों की दासता की दो सदियों के बाद आज़ाद देश के भविष्य की सामाजिक-आर्थिक व्यवस्था को लोकतांत्रिक संस्थानों को सांस्कृतिक सवालों को तब जल्द से जल्द तय किया जाना, सुलझाना और उनकी दिशाएँ सुनिश्चित करने का दायित्व सामने था। परिवर्तन और राष्ट्र निर्माण के ऐसे ऐतिहासिक समय में जगदीशचंद्र माथुर, आईसीएस, ऑल इंडिया रेडियो के डायरेक्टर जनरल थे। उन्होंने ही 'एआईआर' का नामकरण आकाशवाणी किया था।


भारत में टेलीविज़न शुरू होने जा रहा था। माथुर साहब ने ही टीवी का नाम दूरदर्शन रखा था। दूरदर्शन का उद्घाटन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने किया था। उद्घाटन के बाद स्टाफ मीटिंग में माथुर साहब ने कहा था, ‘‘सरकार किसी भी भाषा से चलाई जाए पर लोकतंत्र हिंदी और भारतीय भाषाओं के बल पर ही चलेगा।’’ "हिंदी ही सेतु का काम करेगी, सूचना और संचार तंत्र के सहारे ही हम अपनी निरक्षर जनता तक पहुँच सकते हैं। भारत के बहुमुखी विकास की क्राँति यहीं से शुरू होगी।" उन्होंने कहा था कि लोक संस्कृति के बिना शास्त्रीय कलाओं की शुचिता और सौंदर्य बाधित होगा। हमें एक क्षेत्र की लोक संस्कृति का अंतरसम्बंध दूसरे क्षेत्र की लोक संस्कृति से स्थापित करना पड़ेगा। उन्होंने उस समय कहा था, "दूरदर्शन जैसे माध्यम की शक्ति को पहचानिए और जैसा कि पश्चिम के मीडिया पंडित कहते हैं, ‘मीडिया इज़ द मैसेज’ इस भ्रम को तोड़िए और साबित कीजिए कि ‘मैन बिहाइंड मीडिया इज़ द मैसेज’।"
जगदीशचंद्र माथुर का निधन 14 मई, 1978 को हुआ।


Jagdish Chandra Mathur (July 16, 1917 – 1978) was a Hindi playwright and writer.He came into fame by his first play Konark.He was born in a village near Khurja. His other famous works includes Phela Raja, Shardiya, Dasrath Nandan, Bhor ka Tara and Oo mere Sapne.



He near Khurja, Bulandshahar district, Uttar Pradesh,[3] and got a Master of Arts degree from Prayag University in 1939.[3] He joined the Indian Civil Service in 1941, becoming the education secretary of Bihar. He was the Director General of Akashvani from 1955 to 1962.[3] He worked in Bangkok for three and half years under United Nations's Food and Agriculture Organization (FAO).[3] As Education Secretary of Bihar State from 1949 to 1955 and later, as Director-General, All India Radio(1955-1961), Mr. Mathur initiated several projects of significance. He served as a member of a four-member Committee appointed in 1954 by the Government of India to plan Higher Rural Education. He was Chairman of the Regional Seminar on Visual Aids in Fundamental Education and Community Development in South and South East Asia. In 1960 he was invited by UNESCO to deliver a special lecture at the World Adult Education Congress, Montreal. In 1962 he presented a paper on "Mass Media and Freedom of Expression" at the Human Rights Seminar organized by the UN at New Delhi. He was a member and Vice-Chairman of UNESCO's International Committee for the Advancement of Adult Education. He was a member of the Indian Adult Education Association and of the Executive Committee of the India Literacy Board. In 1963-64, he was in the Harvard University USA, as a Fellow, at its Center for International Affairs. He was co-author(with Paul Neurath) of " An Indian Experiment in Radio Farm Forums" (UNESCO) and another of his reports-"Television for Citizenship" is with UNESCO. His book "New Lamps for Alladin" concerned with the impact of mass-media on under-developed countries, is in the press . His monograph at Harvard on "Rural Development and the Indian Villager" has been well received. He is also the author of one of the few studies in English of the village drama in India, published under the title "Drama in Rural India" by the Indian Council for Cultural Relations, New Delhi. He has also edited medieval vernacular plays of Northern India under the title Bhasha Natak Sangrah (Agra University). He is the Honorary Editor of the Quarterly The Bihar Theatre(Patna) and was, Chairman of the Executive Committee of the National School of Drama. He is the founder and General Secretary of the Vaisali Sangha, an organization devoted to the encouragement of rural culture in North Bihar and was one of the founder-members of the National Academy of Music, Dance and Drama( Sangeet Natak Academy), New Delhi. . He studied folk forms of drama and also complied and edited medieval plays of Northern India. Fellow at the Harvard University 1963-64. Vice-Chairman International Committee for adult education(UNESCO) Founder and Secretary Vaisali Sangha Bihar connected with Sangit Natak Akademi and National School of Drama for some years.