सुशील कुमार पहलवान (जन्म 26 मई, 1983)

May 26, 2017

सुशील कुमार एक कुश्ती पहलवान है, जिनका जन्म 26 मई, 1983 को नजफगढ़ इलाके एक गाँव दापरोला में हुआ था। 'बीजिंग ओलिंपिक' खेलों में देश के लिए 'कांस्य पदक' जीतकर सुशील कुमार 'नज़फगढ़ के नए सुल्तान' बन गए। दिल्ली के नज़फगढ़ से भारतीय क्रिकेट को वीरेंद्र सहवाग जैसा नायाब हीरा मिला लेकिन अब दिल्ली के सुदूर पश्चिम में बसा यह स्थान पहलवान सुशील कुमार के कारण जाना जाता है।


परिवार
एम.टी.एन.एल. में साधारण नौकरी करने वाले सुशील के पिता 'दीवान सिंह' और मां 'कमला' अपने बेटे की इस महान उपलब्धि पर बहुत ही प्रसन्न हैं। दीवानसिंह जी नजफगढ़ के गाँव बापड़ौला से प्रत्येक दिन चार किलो दूध लेकर साइकिल से, तीस किलोमीटर से भी दूर 'छत्रसाल स्टेडियम' पर पहलवानी कर रहे अपने पुत्र सुशील कुमार को इस उम्मीद के साथ पहुँचाते थे कि उनका यह चिराग किसी दिन उनका नाम रोशन करेगा। 'बीजिंग ओलिम्पिक' में 56 साल बाद कुश्ती में 'कांस्य पदक' जीतकर सुशील ने उस दूध का हक अदा कर दिया। सुशील तीन भाइयों के परिवार में सबसे बड़े हैं। वह बचपन से ही कुश्ती के दीवाने थे और प्रारम्भ से ही उनका लक्ष्य ओलिंपिक में मेडल जीतना था।


शिक्षा
सुशील कुमार ने 'दिल्ली विश्वविद्यालय' से स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण की लेकिन वह बचपन से ही 'महाबली सतपाल' से जुड़ गए थे। महाबली सतपाल ने उनके कौशल को निखारने में अहम भूमिका निभाई है। सुशील, सतपाल पहलवान के शिष्य हैं।


विश्व कुश्ती चैम्पियन
सुशील कुमार विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाले भारत के पहले पहलवान हैं। बीजिंग ओलम्पिक्स में कुश्ती में कांस्य पदक जीतने वाले सुशील कुमार ने 12 सितंबर, 2010 को मॉस्को में विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप में फ़्रीस्टाइल में 66 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास बनाया। विश्व कुश्ती में भारत ने रजत व कांस्य पदक पूर्व वर्षों में यद्यपि जीता है, स्वर्ण पदक जीतने वाले वह भारत के पहले पहलवान है। सुशील से पूर्व भारत के रमेश कुमार ने सितंबर 2009 में डेनमार्क में हर्निंग में विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप में कांस्य पदक तथा विशंभर सिंह ने 1967 में विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप में रजत पदक जीता था। भारतीय रेलवे में कार्यरत सुशील कुमार को उनकी इस उपलब्धि के लिए 10 लाख रुपये का पुरस्कार रेलवे ने दिया है। मॉस्को में स्वर्ण पदक हासिल करने के लिये सुशील कुमार ने रूस के एलन गोगाएव को फ़ाइनल में पराजित किया। इससे पूर्व सेमीफ़ाइनल में अजरबैजान के पहलवान को तथा उससे पहले के मुक़ाबलों में यूनान, जर्मनी व मंगोलिया के पहलवानों को सुशील कुमार ने पराजित किया था।


उपलब्धियाँ
रेलवे के कर्मचारी सुशील ने 2006 में 'दोहा एशियाई खेलों' में 'कांस्य पदक' जीतकर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया था।
दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में रोज़ाना सुबह पांच बजे से कुश्ती के दांवपेच सीखने वाले अर्जुन पुरस्कार विजेता सुशील ने अगले ही साल मई 2007 में 'सीनियर एशियाई चैम्पियनशिप' में 'रजत पदक' जीता।
कनाडा में आयोजित 'राष्ट्रमंडल कुश्ती प्रतियोगिता' में 'स्वर्ण पदक' हासिल किया।
भारत की पारंपरिक गुरु-शिष्य परंपरा की बानगी पेश करते हुए ओलंपिक कांस्य पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार ने अपना पदक गुरु महाबली सतपाल को समर्पित कर दिया।
अजरबेजान में हुई विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप में सुशील हालाँकि आठवें स्थान पर पिछड़ गए थे, लेकिन उन्होंने यहीं से 'बीजिंग ओलिम्पिक खेलों' के लिए क्वाल‍िफाई कर लिया था।
बीजिंग ओलिम्पिक 2008 में कांस्य पदक जीतकर पहले भारतीय पहलवान बने।
ओलिम्पिक खेलों के लिए पटियाला के 'राष्ट्रीय क्रीड़ा संस्थान' में विदेशी कोच से ट्रेनिंग लेने वाले सुशील ने इस साल कोरिया में आयोजित 'सीनियर एशिया कुश्ती चैम्पियनशिप' में काँस्य पदक जीता था।
लंदन ओलिम्पिक 2012 में रजत पदक जीतकर ओलम्पिक में दो पदक जीतने वाले पहले भारतीय बने।
पुरस्कार
सुशील कुमार अर्जुन पुरस्कार के अलावा वर्ष 2008-2009 में राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार (संयुक्त) से सम्मानित किये जा चुके हैं।


Sushil Kumar Solanki (born 26 May 1983) is an Indian freestyle wrestler. Competing in the 66 kg weight division he won the 2010 world title, a silver medal at the 2012 London Olympics and a bronze medal at the 2008 Beijing Olympics, which made him the only Indian to win two individual Olympic medals.His 2008 Olympic medal was second for India in wrestling, and the first since Khashaba Dadasaheb Jadhav's bronze medal at the 1952 Summer Olympics.In July 2009, he received the Rajiv Gandhi Khel Ratna – India's highest honour for sportspersons.On 3 October 2010, Kumar handed the Queen's Baton to Prince Charles in the Queen's Baton Relay for the 2010 Commonwealth Games Opening Ceremony]Sushil won the gold medal in the 74 kg division at the 2014 Commonwealth Games
Sushil Kumar was born in a Jaat family of Baprola village near Najafgarh in South West Delhi. His father, Diwan Singh, was a driver in MTNL Delhi, while his mother, Kamla Devi, is a housewife.


Kumar was inspired to take up wrestling by his father, himself a wrestler, and his cousin Sandeep. Sandeep later stopped competing as the family could only support one wrestler. Kumar trained in pehlwani wrestling at the akhada (wrestling school) in the Chhatrasal Stadium from the age of 14. With minimal funds and poor training facilities for wrestling in India, even for the 2008 Olympic team, his family made sure he obtained the necessary dietary supplements by sending him tinned milk, ghee and fresh vegetables.He is a devoted Hindu and strict vegetarian.


He has completed his Graduation (B.P.E.) and Post-Graduation (M.P.E.) from Noida College of Physical Education,Dadri. Kumar is presently employed with the Indian Railways as an assistant commercial manager.
Kumar started training in pehlwani at the Chhatrasal Stadium's akhada at the age of 14. He was trained at the akhada by Yashvir and Ramphal, later by Arjuna awardee Satpal and then at the Indian Railways camp by Gyan Singh and Rajkumar Baisla Gurjar.


After switching to freestyle wrestling Kumar's first success came at the World Cadet Games in 1998 where he won the gold medal in his weight category, followed by a gold at the Asian Junior Wrestling Championship in 2000. Moving out of the junior competitions, in 2003 Kumar won the bronze medal at the Asian Wrestling Championships and a gold at the Commonwealth Wrestling Championships. Kumar placed fourth at the 2003 World Championships, but this went largely unnoticed by the Indian media as he fared badly in the 2004 Olympic Games in Athens, placing 14th in the 60 kg weight class. He won gold medals at the Commonwealth wrestling championships in 2005 and 2007. He placed seventh in the 2007 World Championships and won a bronze medal at the 2008 Olympic Games in Beijing. He won a silver medal at the 2012 Summer Olympics, becoming the first person to win two Olympic medals for independent India.Kumar was awarded the Arjuna Award in 2006 and a coveted Padma shree by the Indian Government in 2011


2008 Beijing Olympics
Kumar lost to Andriy Stadnik in the first round of the 66 kg freestyle wrestling event, leaving his medal hopes hinging on the repechage. He defeated Doug Schwab in the first repechage round and Albert Batyrov in the second round. In the bronze medal match on 20 August 2008, Kumar beat Leonid Spiridonov 3:1. Kumar disclosed that he had no masseur during the three bouts he won within a span of 70 minutes to take the bronze. The team manager Kartar Singh who is a former Asian Games medallist acted as the masseur for him.


2010 World Wrestling Championships, Moscow
At the 2010 World Wrestling Championships Kumar became the first Indian to win a world title in wrestling. He beat the local favourite Alan Gogaev of Russia 3–1 in the finals in the 66 kg category.


2010 Commonwealth Games, Delhi
Kumar won gold medal at the 2010 Commonwealth Games held in Delhi on 10 October 2010. He beat Heinrich Barnes 7–0 in the finals in the 66 kg freestyle wrestling category. The bout was stopped by the referee in the second round. Earlier, in the semifinals, Kumar defeated Famara Jarjou 3–0 within 9 seconds. In the quarterfinals, Kumar defeated Muhammad Salman 10–0 in 46 seconds.


Kumar (left) at the 2012 Olympics


Kumar won a silver medal after losing the final to Tatsuhiro Yonemitsu.Earlier, he had entered the final amid some controversy by beating Kazakhastan's Akzhurek Tanatarov in the semifinal. The Kazakh athlete claimed that Kumar had bitten his ear, which was denied by the latter. Kumar was the Olympic flag bearer for India at the opening ceremony.


2014 Commonwealth Games, Glasgow
Kumar defeated Qamar Abbas in the 74 kg final to win the gold medal at the 2014 Commonwealth Games in Glasgow, Scotland. He won in 107 seconds by fall.


2018 Commonwealth Games, Gold Coast, Australia
Kumar won gold in 74 kg category on 12 April 2018, Thursday, beating South Africa’s Johannes Botha in the final that lasted 80 seconds thus achieving a feat of winning 3 gold medals in 3 consecutive commonwealth games.