उमाशंकर दीक्षित (मृत्यु- 30 मई, 1991)

May 30, 2017

उमाशंकर दीक्षित (जन्म- 12 जनवरी, 1901 ई., उन्नाव, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 30 मई, 1991, नई दिल्ली) 'भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन' के पुरोधा एवं मानवता के पुजारी और राष्ट्रवाद के अग्रदूत थे। उन्होंने भारत में उन्नाव के नाम का गौरव बढ़ाया। उमाशंकर दीक्षित ने केंद्रीय गृहमंत्री व राज्यपाल जैसे महत्त्वपूर्ण पदों पर रहकर स्वयं के हित लाभ को त्याग कर राष्ट्र की सच्ची सेवा की और उसके लिए सदैव समर्पित रहे। तमाम व्यस्तता के बाद भी वे लोगों से परिवार की तरह मिलते थे। वे कर्नाटक और पश्चिम बंगाल के राज्यपाल रहे थे।


जन्म तथा शिक्षा
स्वतंत्रता सेनानी उमाशंकर दीक्षित का जन्म 12 जनवरी, 1901 ई. को उन्नाव ज़िला, उत्तर प्रदेश में हुआ था। इनके पिता का नाम राम सरूप और माता का नाम शिव प्यारी था। अपनी प्रारम्भिक शिक्षा पूर्ण करने के बाद उमाशंकर दीक्षित ने उच्च शिक्षा 'क्रिस्ट चर्च कॉलेज', कानपुर से प्राप्त की थी। उमाशंकर दीक्षित का निधन 90 वर्ष की आयु में 30 मई, 1991 को नई दिल्ली में हुआ।


उमाशंकर दीक्षित के पुत्र विनोद दीक्षित 'भारतीय प्रशासनिक सेवा' (आईएएस) के सदस्य थे और उनका विवाह शीला दीक्षित से हुआ था, जो दिल्ली की मुख्यमंत्री हैं। उमाशंकर दीक्षित के पौत्र संदीप दीक्षित पूर्वी दिल्ली से संसद में कांग्रेस के सदस्य हैं।


जब उमाशंकर दीक्षित बी.ए. प्रथम वर्ष के छात्र थे, तभी 'असहयोग आन्दोलन' में सम्मिलित हो गए थे। वे गणेश शंकर विद्यार्थी के सहयोगी थे। उन जीवन पर स्वामी विवेकानन्द, रामतीर्थ और गांधीजी के विचारों का गहरा प्रभाव था। जेल यात्राओं में स्वाध्याय से उन्होंने विविध विषयों का पर्याप्त ज्ञान प्राप्त कर लिया था। मोतीलाल नेहरू और जवाहरलाल नेहरू से उनका निकट का सम्बन्ध था।


उमाशंकर दीक्षित कांग्रेस कार्य समिति के सदस्य और कोषाध्यक्ष थे। वे कुछ वर्षों तक 'नेशनल हेराल्ड' आदि पत्रों के प्रबंध संचालक भी रहे थे। तदुपरान्त वे राज्य सभा के सदस्य चुन लिए गए। उनको केंद्र सरकार में नगर निर्माण, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, यातायात और गृहमंत्री का पदभार सौंपा गया। वर्ष 1971 से 1975 तक उन्होंने कर्नाटक के राज्यपाल का पद भी संभाला।


कर्नाटक के राज्यपाल - 1976 से 1977 तक
पश्चिम बंगाल के राज्यपाल - 1984 से 1986 तक


Uma Shankar Dikshit (12 January 1901 - 30 May 1991) was an Indian politician, cabinet minister and Governor of West Bengal[1] and Governor of Karnataka.Born on 12 January 1901 at village Ugu of Unnao district, he got his education from Kanpur. Since his student life he joined the freedom movement and was the Secretary of the District Congress Committee Kanpur during the period when Sh. Ganesh Shankar Vidyarthi was the President of the Committee.



He served the Country as the Home Minister, Health Minister and Governor of Karnataka & West Bengal. He also served as treasurer of All India Congress Committee, and Managing Director of Associated Journals at Lucknow. He founded a Girls Intermediate College at his village Ugu in the memory of his mother.
He was awarded Padma Vibhushan, the second highest civilian award in India in 1989, by the Government of India.


Born in Ugu in Unnao district(Unnao) of Uttar Pradesh state, to Ram Sarup and Shiv Pyari, he later studied at the Christ Church College, Kanpur.


Uma Shankar Dikshit started his political career when he joined the Indian freedom movement, during which he was imprisoned four times.


Post-Independence he remained close to Nehru and later sided Indira Gandhi during the 1969 split in Indian National Congress. He joined the Indira Gandhi cabinet in 1971, thereafter he remained Minister for Works and Housing, Govt. of India, 1971-72 later given additional charge of Health and Family Planning, Minister for Home Affairs, 1973–74 and Minister for Shipping and Transport, 1975. He also remained Treasurer, All India Congress Committee (AICC), 1970-75.


He remained the Governor of Karnataka, 1976–77 and Governor of West Bengal 1984-1986.


He died at New Delhi on 30 May 1991 after a prolonged illness at the age of 90 years.


His son Vinod Dikshit was a member of the Indian Administrative Service (IAS), who married Sheila Dikshit, later Chief Minister of Delhi, and his grandson, Sandeep Dikshit, was a member of parliament from East Delhi for Congress lost to renowned bhojpuri actor and music composer Manoj Tewari and granddaughter is Latika Syed.