भूपेश गुप्ता (मृत्यु- 6 अगस्त, 1981)

August 06, 2017

भूपेश गुप्ता( जन्म- अक्टूबर, 1914, मैमनसिंह ज़िला, पूर्वी बंगाल; मृत्यु- 6 अगस्त, 1981, मॉस्को, रूस) भारतीय नेता और भारत की कम्युनिस्ट पार्टी के एक नेता थे। 1952 में भूपेश गुप्ता देश की राज्यसभा के सदस्य चुने गए। वे पार्टी के पत्र 'स्वाधीनता' और 'न्यू एज' के संपादक भी थे।


परिचय-
भूपेश गुप्ता का जन्म अक्टूबर, 1914 ई. में पूर्वी बंगाल के मैमनसिंह ज़िले में एक जमींदार परिवार में हुआ था। छोटी उम्र में ही वे क्रांतिकारी दल 'युगांतर' के सदस्य बन गए थे। भूपेश गुप्ता को ब्रिटिश शासन के विरुद्ध संघर्ष में भाग लेने के कारण 1930, 1931 और 1933 में जेल की सजाएं भोगनी पड़ीं। अपनी बी.ए. की परीक्षा उन्होंने जेल के अंदर से ही दी थी। 1937 में जेल से छूटने पर भूपेश गुप्ता क़ानून की शिक्षा के लिए इंग्लैंड गए। डिग्री लेने पर भी भूपेश गुप्ता ने नियमित रूप से वकालत नहीं की।
इंग्लैंड में ही भूपेश गुप्ता कम्युनिस्ट आंदोलन के संपर्क में आए। 1941 में स्वदेश लौटने पर गिरफ्तारी की आशंका से वे भूमिगत हो गए थे। द्वितीय विश्वयुद्ध के दिनों में जब लोकयुद्ध की पॉलिसी आई और कम्युनिस्ट पार्टी पर से प्रतिबंध हटा लिया गया तो भूपेश गुप्ता भी प्रकट रूप से काम करने लगे।
1952 में भूपेश गुप्ता देश की राज्यसभा के सदस्य चुने गए और 1980 तक निरन्तर उसके सदस्य बने रहे। एक सांसद के रूप में उनकी योग्यता का सब लोग सम्मान करते थे। भूपेश गुप्ता 'भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी' के 'पोलित ब्यूरो' के सदस्य थे। शोषण का निरंतर विरोध करने वाले भूपेश ने पूर्वी बंगाल में छोड़ी अपनी जमींदारी का कोई मुआवजा नहीं लिया।


निधन
भूपेश गुप्ता का 6 अगस्त, 1981 को मॉस्को, रूस में देहांत हो गया।


Bhupesh Gupta (Bengali: ভূপেশ গুপ্ত) (20 October, 1914–6 August 1981) was an Indian politician and a leader of the Communist Party of India.


He was born at Itna,in the erstwhile Mymensingh District of Bengal Province in British India. He studied at the renowned Scottish Church College of the University of Calcutta.
He was a member of the Rajya Sabha for five terms from West Bengal, from 3 April 1952 till his death. He was reelected in 1958, 1964,1970 and 1976. He was a skilled parliamentarian. He died in Moscow on 6 August 1981.