खुदीराम बोस ( मृत्यु : 11 अगस्त, 1908)

August 11, 2017

खुदीराम बोस (जन्म: 3 दिसंबर, 1889 - मृत्यु : 11 अगस्त, 1908) भारतीय स्वाधीनता के लिये मात्र 19 साल की उम्र में हिन्दुस्तान की आज़ादी के लिये फाँसी पर चढ़ गये। भारतीय स्वाधीनता संग्राम का इतिहास क्रांतिकारियों के सैकड़ों साहसिक कारनामों से भरा पड़ा है। ऐसे ही क्रांतिकारियों की सूची में एक नाम खुदीराम बोस का है।


परिचय-
खुदीराम बोस का जन्म 3 दिसंबर 1889 ई. को बंगाल में मिदनापुर ज़िले के हबीबपुर गाँव में त्रैलोक्य नाथ बोस के यहाँ हुआ था। खुदीराम बोस जब बहुत छोटे थे तभी उनके माता-पिता का निधन हो गया था। खुदीराम बोस की बड़ी बहन ने उनका लालन-पालन किया था। सन् 1905 ई. में बंगाल का विभाजन होने के बाद खुदीराम बोस देश के मुक्ति आंदोलन में कूद पड़े थे। सत्येन बोस के नेतृत्व में खुदीराम बोस ने अपना क्रांतिकारी जीवन शुरू किया था।
खुदीराम बोस राजनीतिक गतिविधियों में स्कूल के दिनों से ही भाग लेने लगे थे। उन दिनों अंग्रेज़ों से छोटे-छोटे हिन्दुस्तानी स्कूली बच्चे भी नफ़रत किया करते थे। वे जलसे जलूसों में शामिल होते थे तथा अंग्रेज़ी साम्राज्यवाद के ख़िलाफ़ नारे लगाते थे। बोस को ग़ुलामी की बेड़ियों से जकड़ी भारत माता को आज़ाद कराने की ऐसी लगन लगी कि उन्होंने नौवीं कक्षा के बाद ही पढ़ाई छोड़ दी और सिर पर कफ़न बांधकर जंग-ए-आज़ादी में कूद पड़े।
वह रिवोल्यूशनरी पार्टी के सदस्य बने और वंदेमातरम पंफलेट वितरित करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। 1905 में बंगाल विभाजन के विरोध में चलाए गए आंदोलन में भी उन्होंने बढ़-चढ़ कर भाग लिया।
पुलिस ने 28 फ़रवरी, सन् 1906 ई. को सोनार बंगला नामक एक इश्तहार बाँटते हुए बोस को दबोच लिया। लेकिन बोस मज़बूत थे। पुलिस की बोस ने पिटाई की और उसके शिकंजे से भागने में सफल रहे। 16 मई, सन् 1906 ई. को एक बार फिर पुलिस ने उन्हें गिरफ़्तार कर लिया, लेकिन उनकी आयु कम होने के कारण उन्हें चेतावनी देकर छोड़ दिया गया था। 6 दिसम्बर, 1907 को बंगाल के नारायणगढ़ रेलवे स्टेशन पर किए गए बम विस्फोट की घटना में भी बोस भी शामिल थे। उन्होंने अंग्रेज़ी चीज़ों के बहिष्कार आन्दोलन में बढ़चढ़ कर भाग लिया।
भारतीय स्‍वतंत्रता आंदोलन के आरंभिक चरण में कई क्रांतिकारी ऐसे थे जिन्‍होंने ब्रिटिश राज के विरुद्ध आवाज़ उठाई। खुदीराम बोस भारत की स्‍वतंत्रता के संघर्ष के इतिहास में संभवतया सबसे कम उम्र के क्रांतिकारी थे, जो भारत माँ के सपूत कहे जा सकते हैं। बंगाल के विभाजन के बाद दुखी होकर खुदीराम बोस ने स्‍वतंत्रता के संघर्ष में अपनी क्रांतिकारी गतिविधियों से एक मशाल चलाई। उन्‍होंने ब्रिटिश राज के बीच डर फैलाने के लिए एक ब्रिटिश अधिकारी के वाहन पर बम डाल दिया।
कलकत्ता में उन दिनों किंग्सफोर्ड चीफ प्रेंसीडेसी मजिस्ट्रेट था। वह बहुत सख़्त और क्रूर अधिकारी था। वह अधिकारी देश भक्तों, विशेषकर क्रांतिकारियों को बहुत तंग करता था। उन पर वह कई तरह के अत्याचार करता। क्रान्तिकारियों ने उसे मार डालने की ठान ली थी। युगान्तर क्रांतिकारी दल के नेता वीरेन्द्र कुमार घोष]ने घोषणा की कि किंग्सफोर्ड को मुज़फ्फरपुर में ही मारा जाएगा। इस काम के लिए खुदीराम बोस तथा प्रपुल्ल चाकी को चुना गया।


ये दोनों क्रांतिकारी बहुत सूझबूझ वाले थे। इनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं था। देश भक्तों को तंग करने वालों को मार डालने का काम उन्हें सौंपा गया था। एक दिन वे दोनों मुज़फ्फरपुर पहुँच गए। वहीं एक धर्मशाला में वे आठ दिन रहे। इस दौरान उन्होंने किंग्सफोर्ड की दिनचर्या तथा गतिविधियों पर पूरी नज़र रखी। उनके बंगले के पास ही क्लब था। अंग्रेज़ी अधिकारी और उनके परिवार अक्सर सायंकाल वहाँ जाते थे।


30 अप्रैल, 1908 की शाम किंग्स फोर्ड और उसकी पत्नी क्लब में पहुँचे। रात्रि के साढे़ आठ बजे मिसेज कैनेडी और उसकी बेटी अपनी बग्घी में बैठकर क्लब से घर की तरफ आ रहे थे। उनकी बग्घी का रंग लाल था और वह बिल्कुल किंग्सफोर्ड की बग्घी से मिलती-जुलती थी। खुदीराम बोस तथा उसके साथी ने किंग्सफोर्ड की बग्घी समझकर उस पर बम फेंक दिया। देखते ही देखते बग्घी के परखचे उड़ गए। उसमें सवार माँ बेटी दोनों की मौत हो गई। क्रांतिकारी इस विश्वास से भाग निकले कि किंग्सफोर्ड को मारने में वे सफल हो गए है। खुदीराम बोस और घोष 25 मील भागने के बाद एक रेलवे स्टेशन पर पहुँचे। खुदीराम बोस पर पुलिस को इस बम कांड का संदेह हो गया और अंग्रेज़ पुलिस उनके पीछे लगी और वैनी रेलवे स्टेशन पर उन्हें घेर लिया। अपने को पुलिस से घिरा देख प्रफुल्ल चंद ने खुद को गोली मारकर शहादत दे दी पर खुदीराम पकड़े गए। उनके मन में तनिक भी भय की भावना नहीं थी। खुदीराम बोस को जेल में डाल दिया गया और उन पर हत्या का मुक़दमा चला। अपने बयान में स्वीकार किया कि उन्होंने तो किंग्सफोर्ड को मारने का प्रयास किया था। लेकिन उसे इस बात पर बहुत अफ़सोस है कि निर्दोष कैनेडी तथा उनकी बेटी ग़लती से मारे गए।


प्राण दण्ड की सज़ा
मुक़दमा केवल पाँच दिन चला। 8 जून, 1908 को उन्हें अदालत में पेश किया गया और 13 जून को उन्हें प्राण दण्ड की सज़ा सुनाई गई। इतना संगीन मुक़दमा और केवल पाँच दिन में समाप्त। यह बात न्याय के इतिहास में एक मज़ाक बना रहेगा। 11 अगस्त, 1908 को इस वीर क्रांतिकारी को फाँसी पर चढा़ दिया गया। उन्होंने अपना जीवन देश की आज़ादी के लिए न्यौछावर कर दिया
मुज़फ्फरपुर जेल में जिस मजिस्ट्रेट ने उन्हें फाँसी पर लटकाने का आदेश सुनाया था, उसने बाद में बताया कि खुदीराम बोस एक शेर के बच्चे की तरह निर्भीक होकर फाँसी के तख़्ते की ओर बढ़ा था। जब खुदीराम शहीद हुए थे तब उनकी आयु 19 वर्ष थी। शहादत के बाद खुदीराम इतने लोकप्रिय हो गए कि बंगाल के जुलाहे उनके नाम की एक ख़ास किस्म की धोती बुनने लगे। इनकी शहादत से समूचे देश में देशभक्ति की लहर उमड़ पड़ी थी। इनके साहसिक योगदान को अमर करने के लिए गीत रचे गए और इनका बलिदान लोकगीतों के रूप में मुखरित हुआ। इनके सम्मान में भावपूर्ण गीतों की रचना हुई जिन्हें बंगाल के लोक गायक आज भी गाते हैं।


क्रांतिकारी आंदोलन का प्रथम शहीद
इतिहासकार शिरोल के अनुसार- बंगाल के राष्ट्रवादियों के लिए वह शहीद और अधिक अनुकरणीय हो गया। विद्यार्थियों तथा अन्य लोगों ने शोक मनाया। स्कूल-कॉलेज बंद रहे और नौजवान ऐसी धोती पहनने लगे जिनकी किनारी पर खुदीराम लिखा होता था। खुदीराम बोस को भारत की स्वतंत्रता के लिए संगठित क्रांतिकारी आंदोलन का प्रथम शहीद माना जाता है। अपनी निर्भीकता और मृत्यु तक को सोत्साह वरण करने के लिए वे घर-घर में श्रद्धापूर्वक याद किए जाते हैं।


Khudiram Bose (also spelled Khudiram Bosu or Khudiram Basu) (3 December 1889 – 11 August 1908) was a Bengali-Indian revolutionary who opposed British rule.


Khudiram, along with Prafulla Chaki, attempted to assassinate a British judge, Magistrate Kingsford, by throwing bombs in the carriage they suspected the man was in. Magistrate Kingsford, however, was seated in a different carriage, resulting in the deaths of two British women. Prafulla committed suicide before the arrest. Khudiram was arrested and trialed for the murder of the two women, ultimately being sentenced to death.


At the time of his hanging, Khudiram was 18 years, 7 months, and 11 days old, making him one of the youngest revolutionaries in India.[citation needed] Mahatma Gandhi denounced the violence, lamenting the deaths of the two innocent women. He stated "that the Indian people will not win their freedom through these methods."Bal Gangadhar Tilak, however, in his newspaper Kesari, defended the two young men and called for immediate swaraj. This was followed by the immediate arrest of Tilak by the British colonial government on charges of sedition.


Khudiram Bose was born on December 3, 1889 in the small village named Habibpur, situated under the Keshpur Police Station in the Midnapore district of West Bengal. His father was a Tehsildar in the Nerajol.


Khudiram was the fourth child in a family of three daughters.[9] His parents, Trailokyanath Bose and Lakshmipriya Devi had two sons before the birth of Khudiram but both of them died prematurely. Following the traditional customs prevalent in the culture, the newborn child was symbolically sold to his eldest sister in exchange of three handfuls of food grains locally known as Khud, in an attempt to save him from dying at an early age. This way he acquired the name, Khudiram.


He lost his mother when he was six years old. His father died a year after. Aparupa Roy, his elder sister, brought him to her house at Hatgachha village under the Daspur Police Station. Aparupa's husband, Amritalal Roy, got him admitted to Tamluk's Hamilton High School.


In 1902 and 1903, Sri Aurobindo and Sister Nivedita visited Midnapore. They held a series of public lectures and private session with the existing revolutionary groups for freedom. Khudiram, a teenager, was an active participant in the discussions about the revolution.


Apparently, he joined Anushilan Samiti, and came into contact with the network of Barindra Kumar Ghosh of Calcutta. He became a volunteer at the age of 15, and was arrested for distributing pamphlets against the British rule in India. At the young age of 16, Khudiram took part in planting bombs near the police stations and targeted government officials.
In 1907, Barindra Kumar Ghosh arranged for his associate, Hemchandra Kanungo, to visit Paris in order to learn bomb making techniques from Nicholas Safranski, a Russian revolutionary in exile.


After returning to Bengal, Hemchandra and Barindra Kumar collaborated again and selected Douglas Kingsford as the next target.


Kingsford was the Chief Magistrate of the Presidency Court of Alipore, and had overseen the trials of Bhupendranath Dutta and other editors of Jugantar, sentencing them to rigorous imprisonment. Jugantar itself responded with defiant editorials, leading to five more prosecutions that left it in financial ruins by 1908.[14] These prosecutions brought the paper more publicity, and helped to disseminate the Anushilan Samiti's ideology of revolutionary nationalism. According to Shukla Sanyal, revolutionary terrorism as an ideology began to win support among a significant populace in Bengal, tacitly even if not overt.


Kingsford also earned notoriety among nationalists when he ordered the whipping of a young Bengali boy, Sushil Sen, for participating in the protests that followed the Jugantar trial. As such, during his posting as the Chief Magistrate of the Presidency Court of Alipore, Kingsford became unpopular for passing harsh and cruel sentences on young political workers. He also inflicted corporal punishments on such workers.