मणि मधुकर (जन्‍म 9 सितम्बर, 1942)

September 09, 2017

मणि मधुकर हिंदी एवं राजस्थानी भाषा के प्रसिद्ध कवि और लेखक हैं। इनका मूल नाम मनीराम शर्मा है।


जीवन परिचय
मणि मधुकर का जन्‍म 9 सितम्बर, 1942 में राजस्थान के सेऊवा (राजगढ़), चुरू ज़िला में हुआ था। इनकी शिक्षा राजकीय लोहिया कॉलेज, चूरू से बी.ए. और राजस्‍थान विश्‍वविद्यालय, जयपुर से हिन्‍दी में एम.ए. है।


उपन्‍यास
सफेद मेमने
सरकण्‍डे की सारंगी
पत्‍तों की बिरादरी
मेरी स्त्रियां
कहानी संग्रह
एकवचन बहुवचन
हवा में अकेले
भरत मुनि के बाद
त्‍वमेव माता
चुनिंदा चौदह
नाटक
रसगन्‍धर्व
बुलबुल सराय
दुलारी बाई
खेला पोलमपुर
हे बोधिवृक्ष
इकतारे की आंख
इलाइची बेगम
एकांकी संग्रह
सलवटों में संवाद
जीवनी
ज्‍योर्जी दिमित्रोव
कविता संग्रह
खण्‍ड-खण्‍ड पाखण्‍ड पर्व
घास का घराना
बलराम के हजारों नाम
पगफेरौ (राजस्‍थानी)
रिपोर्ताज
सूखे सरोवर का भूगोल
बाल उपन्‍यास
सुपारीलाल
बालकाव्‍य
अनारदाना

मणि मधुकर ने अनेक रचनाओं का संपादन किया। अनेक रचनाओं का बंगला, कन्‍नड़, उडि़या, मराठी, पंजाबी, डोगरी, असमिया, गुजराती इत्‍यादि देशी व रूसी, जर्मन, पौलिश, फ्रेंच व अंग्रेजी जैसी विदेशी भाषाओं में।


कल्‍पना (हैदराबाद)
अकथ (जयपुर)
समवाय (दिल्‍ली)
रंगयोग (राजस्‍थान संगीत नाटक अकादमी)
आकृति (ललित कला अकादमी)।


मणि मधुकर ने अनेक रचनाओं का बंगला, कन्नड़, उड़िया , मराठी, पंजाबी, डोगरी, असमिया, गुजराती इत्‍यादि देशी व रूसी, जर्मन, पौलिश, फ्रेंच व अंग्रेजी जैसी विदेशी भाषाओं में अनुवाद किया है।


साहित्य अकादमी पुरस्कार
प्रेमचंद पुरस्‍कार
कालिदास पुरस्‍कार

मणि मधुकर 'विश्‍व कविता समारोह-80' यूगोस्‍लाविया में भारत सांस्‍कृतिक सम्‍बद्ध परिषद् के चयनमण्‍डल द्वारा भेजे गए एकमात्र भारतीय प्रतिनिधि कवि हैं। विभिन्‍न अवसरों पर अठारह से अधिक देशों की यात्राएं कर चुके हैं।