एन.जी. रंगा ( जन्म- 7 नवम्बर, 1900)

November 07, 2017

एन.जी. रंगा ( जन्म- 7 नवम्बर, 1900, गुंटूर ज़िला, आंध्र प्रदेश; मृत्यु- 9 जून, 1995) भारत के स्वतंत्रता सेनानी, सांसद तथा प्रसिद्ध किसान नेता थे। ये आरम्भ से ही किसानों की समस्याओं से जुड़े रहे। इन्होंने किसानों के शोषण के विरुद्ध आवाज़ उठाई तथा उन्हें संगठित किया। एन.जी. रंगा उन चंद नेताओं में से एक थे, जिन्हें कृषि की समस्याओं का गहन ज्ञान था। साथ ही उन्होंने किसानों के भूमि अधिकार के लिए दो दशकों तक कार्य किया। उन्होंने कांग्रेस में कई महत्त्वपूर्ण पद प्राप्त किए, लेकिन सहकारी कृषि पर नेहरू जी के साथ विवाद होने के कारण उन्होंने त्यागपत्र दे दिया था। एन.जी. रंगा ने 'कृषिकर लोक पार्टी' के नाम से किसानों की एक पार्टी की स्थापना की थी, जिसका बाद में स्वतंत्र पार्टी में विलय हो गया, जिसके वे संस्थापक सदस्य और अध्यक्ष थे।


प्रसिद्ध समाजवादी और कृषक नेता एन.जी. रंगा का जन्म आन्ध्र प्रदेश के गुंटूर ज़िले में 7 नवम्बर, 1900 ई. को हुआ था। इनके बचपन में ही माता-पिता का निधन हो गया था। इनकी विधवा चाची ने उनका पालन-पोषण किया। गुंटूर में स्नातक की शिक्षा पूरी करने के बाद एन.जी. रंगा 'आई. सी. एस.' की परीक्षा देने के उद्देश्य से 1920 में इंग्लैण्ड गए, परन्तु 'ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय' में जी. डी. एच. कोल, ब्रेल्सफ़ोर्ड, रेडफ़ोर्ड जैसे समाजवादी विचारकों के प्रभाव में आकर रंगा ने अपने विचार बदल लिए और उन्होंने साहित्य की डिग्री ली।


एन.जी. रंगा जी के ऊपर विपिन चन्द्र पाल तथा अन्य क्रान्तिकारियों के साथ-साथ प्राचीन भारतीय साहित्य, रामायण, महाभारत का भी प्रभाव पड़ा। भारत लौटने पर उन्होंने मद्रास के कॉलेज में अध्यापन का कार्य आरम्भ किया।


शीघ्र ही रंगा जी ने अध्यापन कार्य छोड़ दिया और स्वतंत्रता संग्राम में कूद पड़े। वे किसानों को संगठित करने के काम में जुट गए। बाद में वे 'अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी' के सदस्य और 'आन्ध्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी' के अध्यक्ष बने। एन.जी. रंगा कृषि उत्पादकों के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के संस्थापक सदस्य थे। स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने के कारण उन्हें कई बार जेल की सज़ाएँ भी भोगनी पड़ीं। उन्होंने 1927 से 1930 तक मद्रास विश्वविद्यालय में और 1980 में आन्ध्र विश्वविद्यालय में अध्यापन का काम किया था। इससे वे 'प्रोफ़ेसर रंगा' कहलाते थे। राजगोपालाचारी के साथ 1959 में रंगा ‘स्वतंत्र पार्टी’ में सम्मिलित हुए और उसके अध्यक्ष बने। वे लोकसभा के अध्यक्ष चुने गए और वहाँ अपने दल के नेता रहे। 1973 में उन्होंने ‘स्वतंत्र पार्टी’ छोड़ दी और फिर से कांग्रेस में आ गए।


समाज सुधार के क्षेत्र में भी एन.जी. रंगा अग्रणी रहे। 1923 में उन्होंने अपने घर का कुआँ हरिजनों के लिए खोल दिया। महिलाओं को आगे बढ़ाने का सदा समर्थन करते रहे। आन्ध्र प्रदेश को अलग राज्य बनाने के आन्दोलन के भी वे प्रमुख नेता थे।


एन.जी. रंगा ने 1931 ई. में आन्ध्र प्रदेश रैयत सभा की स्थापना की।
वे कांग्रेस समाजवादी पार्टी से उसकी स्थापना के साथ ही जुड़ गए थे।
इन्होंने आन्ध्र प्रदेश के नीदुब्रोलु कस्बे में ‘इण्डियन पेजेण्ट इन्स्टीट्यूट’ की स्थापना की, जिसका मुख्य उद्देश्य किसान कार्यकलापों को प्रशिक्षण देना था।
स्वतन्त्रता प्राप्ति के पश्चात वे लोक सभा के सदस्य बने तथा लगातार आठ बार लोक सभा के लिए चुने गए, जो कीर्तिमान है।


Gogineni Ranga Nayukulu, also known as N. G. Ranga (7 November 1900 – 9 June 1995), was an Indian freedom fighter, parliamentarian and kisan (farmer) leader. He was an exponent of the peasant philosophy, and considered the father of the Indian Peasant Movement after Swami Sahajanand Saraswati.



Ranga was born in Nidubrolu village in Guntur District of Andhra Pradesh. He went to school in his native village, and graduated from the Andhra-Christian College, Guntur. He received a B.Litt. in Economics from the University of Oxford in 1926. On his return to India, he took up teaching as Professor of Economics at Pachaiyappa's College, Madras (Chennai).



Ranga joined the freedom movement inspired by Gandhi's clarion call in 1930. He led the ryot agitation in 1933. Three years later, he launched the Kisan Congress party. He held historic discussions with Gandhiji on the demand for a rythu-coolie state. He wrote a book, Bapu Blesses regarding his discussions with Gandhi.


Ranga was one of the founders of the International Federation of Agricultural Producers. He represented India at the Food and Agriculture Organisation (Copenhagen) in 1946, the International Labour Organisation (San Francisco) in 1948, the Commonwealth Parliamentary Conference (Ottawa) in 1952, the International Peasant Union (New York City) in 1954 and the Asian Congress for World Government (Tokyo) in 1955.


He quit the Congress Party and founded the Bharat Krushikar Lok Party and the Swatantra Party, along with Rajaji who was a trenchant critic of the cooperative farming idea. Ranga became the founder-president of the Swatantra Party and held that post for a decade. In the general elections held in 1962, the party won 25 seats and emerged as a strong Opposition. He rejoined the Congress (I) in 1972.


Ranga served the Indian Parliament for six decades from 1930 to 1991.He died on 8 June 1995 4.30 pm in his native place ponnur or nidubrolu? Guntur district. Prime Minister PV Narasimha Rao condoled the death of Prof. Ranga, the Prime Minister said that in the passing away of Prof Ranga, the country has lost an outstanding Parliamentarian and a champion of public causes and rural peasantry. Prof. Ranga served as a Member of Parliament for a record number of 60 years and found a place in the Guinness Book of World Records .The Andhra Pradesh government declared a 3-day state mourning.



Ranga joined the freedom movement inspired by Gandhi's clarion call in 1930. He led the ryot agitation in 1933. Three years later, he launched the Kisan Congress party. He held historic discussions with Gandhiji on the demand for a rythu-coolie state. He wrote a book, Bapu Blesses regarding his discussions with Gandhi.


Ranga was one of the founders of the International Federation of Agricultural Producers. He represented India at the Food and Agriculture Organisation (Copenhagen) in 1946, the International Labour Organisation (San Francisco) in 1948, the Commonwealth Parliamentary Conference (Ottawa) in 1952, the International Peasant Union (New York City) in 1954 and the Asian Congress for World Government (Tokyo) in 1955.


He quit the Congress Party and founded the Bharat Krushikar Lok Party and the Swatantra Party, along with Rajaji who was a trenchant critic of the cooperative farming idea. Ranga became the founder-president of the Swatantra Party and held that post for a decade. In the general elections held in 1962, the party won 25 seats and emerged as a strong Opposition. He rejoined the Congress (I) in 1972.


Ranga served the Indian Parliament for six decades from 1930 to 1991.He died on 8 June 1995 4.30 pm in his native place ponnur or nidubrolu? Guntur district. Prime Minister PV Narasimha Rao condoled the death of Prof. Ranga, the Prime Minister said that in the passing away of Prof Ranga, the country has lost an outstanding Parliamentarian and a champion of public causes and rural peasantry. Prof. Ranga served as a Member of Parliament for a record number of 60 years and found a place in the Guinness Book of World Records .The Andhra Pradesh government declared a 3-day state mourning.