साधना (मृत्यु: 25 दिसम्बर, 2015)

December 25, 2017

साधना ( जन्म: 2 सितम्बर, 1941, कराची; मृत्यु: 25 दिसम्बर, 2015, मुम्बई) भारतीय सिनेमा की प्रसिद्ध अभिनेत्री रही हैं। उन्होंने फ़िल्म 'अबाणा' से अपना फ़िल्मी सफर आरम्भ किया था। साधना ने हिन्दी फ़िल्मों से जो शोहरत पाई और जो मुकाम हासिल किया, वह किसी से छिपा नहीं है। साधना का पूरा नाम 'साधना शिवदासानी' (बाद में नैय्यर) था। वह अपने माता-पिता की एकमात्र संतान थीं। अपने बालों की स्टाइल की वजह से भी साधना प्रसिद्ध थीं, उनके बालों की कट स्टाइल 'साधना कट' के नाम से जानी जाती है।


साधना के पिता का नाम शेवाराम और माता का नाम लालीदेवी था। माता-पिता की एकमात्र संतान होने के कारण साधना का बचपन बड़े प्यार के साथ व्यतीत हुआ था। 1947 में भारत के बंटवारे के बाद उनका परिवार कराची छोड़कर मुंबई आ गया था। इस समय साधना की आयु मात्र छ: साल थी। साधना का नाम उनके पिता ने अपने समय की पसंदीदा अभिनेत्री 'साधना बोस' के नाम पर रखा था। साधना ने आठ वर्ष की उम्र तक अपनी शिक्षा घर पर ही पूरी की थी। ये शिक्षा उन्हें उनकी माँ से प्राप्त हुई थी। रूपहले पर्दे पर अपनी दिलकश अदाकारी से घर-घर में पसंद की जाने वाली साधना का विवाह आर.के. नैय्यर के साथ हुआ था, जिस कारण वह साधना नैय्यर के नाम से भी जानी गईं, किंतु उनका साधना नाम ही ज़्यादा प्रसिद्ध रहा।


जब साधना स्कूल की छात्रा थीं और नृत्य सीखने के लिए एक डांस स्कूल में जाती थीं, तभी एक दिन एक नृत्य-निर्देशक उस डांस स्कूल में आए। उन्होंने बताया कि राजकपूर को अपनी फ़िल्म के एक ग्रुप-डांस के लिए कुछ ऐसी छात्राओं की ज़रूरत है, जो फ़िल्म के ग्रुप डांस में काम कर सकें। साधना की डांस टीचर ने कुछ लड़कियों से नृत्य करवाया और जिन लड़कियों को चुना गया, उनमें से साधना भी एक थीं। इससे साधना बहुत खुश थीं, क्योंकि उन्हें फ़िल्म में काम करने का मौका मिल रहा था। राजकपूर की वह फ़िल्म थी- 'श्री 420'। डांस सीन की शूटिंग से पहले रिहर्सल हुई। वह गाना था- 'रमैया वस्ता वइया..।' साधना शूटिंग में रोज़ शामिल होती थीं। नृत्य-निर्देशक जब जैसा कहते साधना वैसा ही करतीं। शूटिंग कई दिनों तक चली। लंच-चाय तो मिलते ही थे, साथ ही चलते समय नगद मेहनताना भी मिलता था।


एक दिन साधना ने देखा कि 'श्री 420' के शहर में बड़े-बड़े बैनर लगे हैं। फ़िल्म रिलीज हो रही है। ऐसे में एक्स्ट्रा कलाकार और कोरस डांसर्स को कोई प्रोड्यूसर प्रीमियर पर नहीं बुलाता, इसलिए साधना ने खुद अपने और अपनी सहेलियों के लिए टिकटें ख़रीदीं। दरअसल, साधना यह चाहती थीं कि वे पर्दे पर डांस करती हुई कैसी लगती हैं, उनकी सहेलियाँ भी देखें। सहेलियों के साथ साधना सिनेमा हॉल पहुँचीं। फ़िल्म शुरू हुई। जैसे ही गीत 'रमैया वस्तावइया..' शुरू हुआ, तो साधना ने फुसफुसाते हुए सहेलियों से कहा, इस गीत को गौर से देखना, मैंने इसी में काम किया है। सभी सहेलियाँ आंखें गड़ाकर फ़िल्म देखने लगीं। लेकिन गाना समाप्त हो गया और वे कहीं भी नज़र नहीं आईं। तभी सहेलियों ने पूछा, अरे तू तो कहीं भी नज़र ही नहीं आई। साधना की आंखें उनकी बात सुनकर डबडबा गईं। उन्हें क्या पता था कि फ़िल्म के संपादन में राजकपूर उनके चेहरे को काट देंगे। लेकिन यह एक संयोग ही कहा जायेगा कि जिस राजकपूर ने साधना को उनकी पहली फ़िल्म में आंसू दिए थे, उन्होंने आठ साल बाद उनके साथ 'दूल्हा दुल्हन' में हीरो का रोल निभाया।


वर्ष 1955 में "राज कपूर" की फ़िल्म 'श्री 420' के गीत 'ईचक दाना बीचक दाना' में एक कोरस लड़की की भूमिका मिली थी साधना को, उस वक़्त वो 15 साल की थीं, दरअसल साधना को वह एक विज्ञापन कपनी ने अपने उत्पादकों के लिए मौक़ा दिया था। इन्हें भारत की पहली सिंधी फ़िल्म 'अबाणा' (1958) में काम करने का मौक़ा मिला जिसमें उन्होंने अभिनेत्री शीला रमानी की छोटी बहन की भूमिका निभाई थी और इस फ़िल्म के लिए इन्हें 1 रुपए की टोकन राशि का भुगतान किया गया था। इस सिंधी ख़ूबसूरत बाला को सशधर मुखर्जी ने देखा, जो उस वक़्त बहुत बड़े फ़िल्मकार थे। सशधर मुखर्जी को अपने बेटे जॉय मुखर्जी के लिए एक हिरोइन के लिए नये चेहरे की तलाश कर रहे थे।


वर्ष 1960 में "लव इन शिमला" रिलीज़ हुई, इस फ़िल्म के निर्देशक थे आर.के. नैयर, और उन्होंने ही साधना को नया लुक दिया "साधना कट"। दरअसल साधना का माथा बहुत चौड़ा था उसे कवर किया गया बालों से, उस स्टाईल का नाम ही पड़ गया "साधना कट" । 1961 में एक और "हिट" फ़िल्म हम दोनों में देव आनंद के साथ इस B/W फ़िल्म को रंगीन किया गया था और 2011 में फिर से रिलीज़ किया गया था। 1962 में वह फिर से निर्देशक ऋषिकेश मुखर्जी द्वारा असली-नकली में देव आनंद के साथ थीं।


1963 में, टेक्नीकलर फ़िल्म 'मेरे मेहबूब' एच. एस. रवैल द्वारा निर्देशित उनके फ़िल्मी कैरियर ब्लॉकबस्टर फ़िल्म थी। यह फ़िल्म 1963 की भी ब्लॉकबस्टर फ़िल्म थी और 1960 के दशक के शीर्ष 5 फ़िल्मों में स्थान पर रहीं। मेरे मेहबूब में निम्मी पहले साधना वाला रोल करने जा रही थी न जाने क्या सोच कर निम्मी ने साधना वाला रोल ठुकरा कर राजेंद्र कुमार की बहन वाला का रोल किया। साधना के बुर्के वाला सीन इंडियन क्लासिक में दर्ज है। साल 1964 में उनके डबल रोल की फ़िल्म रिलीज़ हुई जिसमें मनोज कुमार हीरो थे और फ़िल्म का नाम था "वो कौन थी"। सफेद साड़ी पहने महिला भूतनी का यह किरदार हिन्दुस्तानी सिनेमा में अमर हो गया। इस फ़िल्म से हिन्दुस्तानी सिनेमा को नया विलेन भी मिला जिसका नाम था 'प्रेम चोपड़ा'। साधना को लाज़वाब एक्टिंग के लिए प्रदर्शन सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के रूप में पहला फ़िल्मफेयर नामांकन भी मिला था। क्लासिक्स फ़िल्म वो कौन थी, मदन मोहन के लाज़वाब संगीत और लता मंगेशकर की लाज़वाब गायकी के लिए भी याद की जाती है। "नैना बरसे रिमझिम" का आज भी कोई जवाब नहीं है। इस फ़िल्म के लिए साधना को मोना लिसा की तरह मुस्कान के साथ 'शो डाट' कहा गया था। यह फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर "हिट" थी। साल 1964 में साधना का नाम एक हिट से जुड़ा यह फ़िल्म थी राजकुमार, हीरो थे शम्मी कपूर। राजकुमार भी साल 1964 की ब्लॉकबस्टर फ़िल्म थी। साल 1965 की मल्टी स्टार कास्ट की फ़िल्म 'वक़्त' रिलीज़ हुई जो इस साल की ब्लॉकबस्टर भी थी जिसमें राज कुमार सुनील दत्त, शशि कपूर, बलराज साहनी, अचला सचदेव और शर्मिला टैगोर जैसे सितारे थे। 'वक़्त' में साधना ने तंग चूड़ीदार- कुर्ता पहना जो इस पहले किसी भी हेरोइन ने नहीं पहना था। साल 1965 साधना के लिए एक और कामयाबी लाया था इसी साल रिलीज़ हुई रामानन्द सागर की "आरजू" जिसमें शंकर जयकिशन का लाजवाब संगीत और हसरत जयपुरी का लिखा यह गीत जो गाया था लता मंगेशकर ने "अजी रूठ कर अब कहाँ जायेगा" ने तहलका मचा दिया था। फ़िल्म "आरजू" में भी साधना ने अपनी स्टाईल को बरकरार रखा। साधना ने रहस्यमयी फ़िल्में 'मेरा साया' (1966) सुनील दत्त के साथ और 'अनीता' (1967) मनोज कुमार के साथ कीं। दोनों फ़िल्मों की हिरोइन साधना डबल रोल में थी, संगीतकार एक बार फिर मदन मोहन ही थे। फ़िल्म 'मेरा साया' का थीम सोंग "तू जहाँ जहाँ चलेगा, मेरा साया साथ होगा" और "नैनो में बदरा छाए" जैसे गीत आज भी दिल को छुते हैं। अनीता (1967) से कोरियोग्राफ़र सरोज खान को मौक़ा मिला था। सरोज खान उन दिनों के मशहूर डांस मास्टर सोहन लाल की सहायक थी, गाना था 'झुमका गिरा रे बरेली के बाज़ार में' इस गाने को आवाज़ दी दी थी [आशा भोंसले]] ने। उस दौर में जब यह यह गाना स्क्रीन पर आता था तो दर्शक दीवाने हो जाते थे और परदे पर सिक्कों की बौछार शुरू हो जाती थी जिन्हें लुटने के लिए लोग आपस में लड़ जाते थे। इस फ़िल्म के गीत भी राजा मेंहदी अली खान ने लिखे थे। कहते हैं कि साधना को नजर लग गयी जिससे उन्हें थायरॉयड हो गया था। अपने ऊँचे फ़िल्मी कैरियर के बीच वो इलाज़ के लिए अमेरिका के बोस्टन चली गयी। अमेरिका से लौटने के बाद, वो फिर फ़िल्मी दुनिया में लौटी और कई कामयाब फ़िल्में उन्होंने की। इंतकाम (1969) में अभिनय किया, एक फूल माली इन दोनों फ़िल्मों के हीरो थे संजय ख़ान। बीमारी ने साधना का साथ नहीं छोड़ा अपनी बीमारी को छिपाने के लिए उन्होंने अपने गले में पट्टी बंधी अक्सर गले में दुपट्टा बांध लेती थी, यही साधना आइकन बन गया था और उस दौर की लड़कियों ने इसे भी फैशन के रूप में लिया था। साल 1974 में 'गीता मेरा नाम' रिलीज़ हुई जो उनकी आखिरी कमर्शियल हिट थी, इस फ़िल्म की निर्देशक स्वयं थी और इस फ़िल्म में भी उनका डबल रोल था। सुनील दत्त और फ़िरोज़ ख़ान हीरो थे। साधना की कई फ़िल्में बहुत देर से रिलीज़ हुई। 1970 के आस पास 'अमानत' को रिलीज़ होना था लेकिन वो 1975 में रिलीज़ हुई तब बहुत कुछ बदल चुका था। 1978 में 'महफ़िल' और 1994 में 'उल्फ़त की नयी मंजिलें'।


साधना ने 6 मार्च, 1966 को निर्देशक आर.के. नैयर के साथ शादी कर ली जो 1995 में हमेशा के लिए उनका साथ छोड़ गये। इस शादी से साधना के पिता खुश नहीं थे। आर.के. नैयर दमे के मरीज़ थे। साधना के कोई संतान नहीं हुई। साधना की चचेरी बहन बबिता ने फ़िल्मी दुनिया में कदम रखा। यह बात और है कि बबिता अपनी बहन से बहुत ज्यादा प्रभावित थी। लिहाजा उन्होंने ने भी साधना स्टाईल को अपनाया। बबिता ने फ़िल्म अभिनेता रंधीर कपूर से शादी कर फ़िल्मों को अलविदा कह दिया। अपने फ़िल्मी करियर को लेकर साधना बहुत संजीदा थीं।


हिंदी सिनेमा में योगदान के लिए, अंतर्राष्ट्रीय भारतीय फ़िल्म अकादमी (आईफा) द्वारा 2002 में लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित भी किया जा चुका है। कई हिंदी फ़िल्मों में उनके पिता का रोल उनके सगे चाचा हरी शिवदासानी ने किया था जो अभिनेत्री बबिता के पिता हैं।


1958 में साधना ने अपनी पहली सिंधी फ़िल्म 'अबाणा' की थी। इस फ़िल्म को करते समय उनकी आयु 16-17 वर्ष थी। अभिनेत्री शीला रमानी इस फ़िल्म की नायिका थीं और साधना ने इस फ़िल्म में उनकी छोटी बहन का किरदार निभाया था। उनकी देवआनंद के साथ एक फ़िल्म 'साजन की गलियाँ' कुछ कारणों से थियेटर तक नहीं पहुँच सकी और प्रदर्शित नहीं हो पाई। साधना ने कई कला फ़िल्मों में भी अभिनय किया। रोमांटिक और रहस्यमयी फ़िल्मों के अलावा उन्हें कला फ़िल्मों में भी बहुत सराहा गया। उनकी हेयर स्टाइल आज भी साधना कट के नाम से जानी जाती है। चूड़ीदार कुर्ता, शरारा, गरारा, कान में बड़े झुमके, बाली और लुभावनी मुस्कान यह सब साधना की विशिष्ट पहचान रही है। चार फ़िल्मों में साधना ने दोहरी भूमिका निभाई थी। साधना की जो बेहद कामयाब फ़िल्में रही है, उनमें 'आरज़ू', 'वक़्त', 'वो कौन थी', 'मेरा साया', 'हम दोनों', 'वंदना', 'अमानत', 'उल्फ़त', 'बदतमीज', 'इश्क पर ज़ोर नहीं', 'परख', 'प्रेमपत्र', 'गबन', 'एक फूल दो माली' और 'गीता मेरा नाम' आदि का नाम प्रमुखता से लिया जा सकता है।


फ़िल्म सूची
साधना की प्रमुख फ़िल्म सूची
वर्ष फ़िल्म वर्ष फ़िल्म
1955 श्री 420[3] 1958 अबाणा
1960 लव इन शिमला 1960 परख
1961 हम दोनों 1962 एक मुसाफिर एक हसीना
1962 प्रेम पत्र 1962 मन मौजी
1962 असली नकली 1963 मेरे मेहबूब
1964 वो कौन थी 1964 राजकुमार
1964 पिकनिक 1964 दूल्हा दुलहन
1965 वक़्त 1965 आरजू
1966 मेरा साया 1967 अनीता
1968 स्त्री[5] 1969 सच्चाई
1969 इंतकाम 1969 एक दो फूल माली
1970 इश्क पर ज़ोर नहीं 1971 आप आये बहार आई
1972 दिल दौलत दुनिया 1973 हम सब चोर हैं
1974 गीता मेरा नाम 1974 छोटे सरकार
1974 वंदना 1975 अमानत
1978 महफ़िल 1987 नफ़रत
1988 आख़िरी निश्चय 1994 उल्फ़त की नयी मंज़िलें
प्रमुख नायक
साधना के प्रमुख नायकों में जॉय मुखर्जी, देव आनंद, सुनील दत्त, मनोज कुमार, शम्मी कपूर, राजेन्द्र कुमार, राज कपूर, फ़िरोज़ ख़ान, शशि कपूर, किशोर कुमार, संजय ख़ान और वसंत चौधरी आदि का नाम आता है। इन दिनों साधना प्रशंसकों के बीच नहीं आती।



अभिनेत्री साधना का निधन 25 दिसम्बर, 2015 को मुम्बई, महाराष्ट्र में हुआ।


Sadhana Shivdasani (2 September 1941 – 25 December 2015), known mononymously as Sadhana, was an Indian actress, who was one of the most beautiful and the top actresses in the 1960s, a period regarded as Bollywood's "golden era". She was the highest paid actress of her time.


Shivdasani appeared in the Sindhi language film Abaana and entered the Hindi film industry through the 1960s romantic film Love in Simla. Her fringe haircut became popular during the 1960s and came to be known as the "Sadhana cut".


She became famous with her three suspense thriller films; Woh Kaun Thi? (1964), Mera Saaya (1966) and Anita (1967), all directed by Raj Khosla. She was nominated for the Filmfare Award for Best Actress for films Woh Kaun Thi? and Waqt in 1965 and 1966 respectively. She took retirement from the film industry in the mid-1970s before which she also directed and co-produced a few films.
Born in a Sindhi family[6] in Karachi, British India on 2 September 1941, Sadhana was named after her father's favorite actress-dancer Sadhana Bose. Her father was the elder brother of actor Hari Shivdasani, father of actress Babita.


The family migrated from Karachi during the post-Partition riots and settled in Mumbai. Her mother home-schooled her until she was 8 years old, after which she studied at Auxilium Convent, Wadala and Jai Hind College.Sadhana aspired to be an actress since childhood. Her father helped her enter films. In 1955 she played a chorus girl in the song "Mur mur ke na dekh mur mur ke" in Raj Kapoor's Shree 420.When she was 15 years old, she was approached by some producers who had seen her act in a college play. They cast her in India's first Sindhi film titled Abaana (1958), where she played the role of Sheila Ramani's younger sister.


A photograph of her publicizing Shree 420 appeared in the movie magazine Screen. It was then that Sashadhar Mukherjee, one of Hindi cinema's leading producers at that time, noticed her. She joined Mukherjee's acting school along with her debutant co-star Joy Mukherjee. Sashadhar’s son. R.K. Nayyar, who had previously worked as assistant director on a few films, directed this film. He also created her trademark look, called the Sadhana cut, inspired by British actress Audrey Hepburn.[8][10] The Filmalaya Production banner thus introduced Joy, Sadhana and her iconic hairstyle in their 1960 romantic film Love in Simla. The film was declared a hit at the box office and was listed in the top 10 films of 1960. During this period she would again work under the same banner opposite Joy in Ek Musafir Ek Haseena.Sadhana married her Love in Simla director Ram Krishna Nayyar on 7 March 1966.Their love blossomed on the film set. But as she was very young then, her parents opposed it. They were married for nearly thirty years, until his death in 1995 from asthma. The couple had no children.


She suffered from eye problems due to hyperthyroidism. After her retirement from acting, she refused to be photographed. Living in Santacruz, Mumbai, she rented an apartment building owned by singer Asha Bhosle.


Awards
Despite the fact that many of Shivdasani's films fared very well at the box office, she did not receive any of the leading awards of the film industry. She was nominated for the Filmfare Award in Best Actress category for her roles in Woh Kaun Thi? and Waqt.


For her contribution to film, she was awarded the Lifetime Achievement Award by the IIFA in 2002.


During her later years, Sadhana was involved in court cases and suffered from illness. She had undergone an emergency surgery due to a bleeding oral lesion in December 2014 at the K J Somaiya Medical College.


Sadhana died on 25 December 2015 in Hinduja Hospital, Mumbai after being hospitalised with high fever. Although the illness she briefly suffered from was officially undisclosed, a family friend confirmed Sadhana had cancer.



Filmography
Year Movie Role Note
1955 Shree 420 Chorus girl Cameo role in the song "Mud Mud Ke Na Dekh"
1958 Abana First Sindhi film
1960 Love in Simla Sonia
1960 Parakh Seema Hit Song "O Sajna Barkha Bahar"
1961 Hum Dono Mita Hit Song "Abhi Na Jao Chodkar"
1962 Prem Patra Kavita Kapoor
1962 Man Mauji Rani
1962 Ek Musafir Ek Hasina  Asha
1962 Asli-Naqli  Renu Hit Song "Tere Mera Pyar Amar", "Tujhe Jeevan Ki Durse"
1963 Mere Mehboob Husna Banu Changezi Hit Song "Mere Mehboob Tujhe Meri"
1964 Woh Kaun Thi?  Sandhya / Seema (Double Role) Nominated: Filmfare Award for Best Actress
Hit Song "Lag Ja Gale Ke Phir", "Jo Humne Dastan Apni",
"Naina Barse Rim Zim"
1964 Rajkumar Princess Sangeeta Hit Song "Aaja Aai Bahar"
1964 Picnic Not released
1964 Dulha Dulhan  Rekha / Chanda
1965 Waqt Meena Mittal Nominated: Filmfare Award for Best Actress
1965 Arzoo  Usha Hit Song "Bedardi Balma Tujhko"
1966 Mera Saaya  Geeta / Nisha (Raina) (Double Role) Hit Song "Jhoomka Gira Re", "Mera Saaya Saath Hoga"
1966 Gaban  Jalpa Hit Song "tum bin sajan"
1966 Budtameez  Shanta
1967 Anita Anita Hit Song "pichwade buddha khansta, saamne mere sawariya"
1969 Sachaai Shobha Dayal
1969 Intaquam Reeta Mehra Hit Song "Hum Tumhare Liye, geet tere saaz ka"
1969 Ek Phool Do Mali Somna "All songs very popular"
1970 Ishq Par Zor Nahin Sushma Rai "yeh dil deewana hai, sach kehti hai duniyaa"
1971 Aap Aye Bahaar Ayee Neena Bakshi Hit Song "Mujhe Teri Mohabbat Ka"
1972 Dil Daulat Duniya Roopa
1972 Geeta Mera Naam  Kavita / Neeta / Geeta (Double Role) "suniye zara dekh lijiye na"
1974 Chhote Sarkar  Radhika
1974 Vandana
1977 Amaanat  Suchitra
1981 Mehfil  Shalini / Ratnabai (Double Role) Delayed Release
1994 Ulfat Ki Nayee Manzeelein  Delayed release

Know Another Day